• Home
  • युवाओं की नशों से घुल रहा नशे का जहर फिर भी मंडल में एक भी नहीं है सरकारी नशा मुक्ति केंद्र

युवाओं की नशों से घुल रहा नशे का जहर फिर भी मंडल में एक भी नहीं है सरकारी नशा मुक्ति केंद्र

नैनीताल,नरेशकुमार:नशेकीलतयुवाओंकीनशोंमेंजहरघोलरहीहै।पहाड़ोंपरधड़ल्लेसेचरस,नशीलीदवाइयांऔरस्मैककाकारोबारफलफूलरहाहै।पुलिसभीइसपरलगामलगानेमेंनाकामसाबितहोरहीहै।मंडलभरमेंएकभीसरकारीनशामुक्तिकेंद्रनहींहै।निजीस्तरपरसंचालितनशामुक्तिकेंद्रयातोमानकोंकेविपरीतचलरहेहैयाफिरलोगोंकीजेबकाटरहेहैं।

स्वयंसेवीसंस्थाओंकेरूपमेंचलरहेनशामुक्तिकेंद्र

कुमाऊंमंडलमेंनशामुक्तिकेंद्रस्वयंसेवीसंस्थाओंकेरूपमेंसंचालितहोरहेहै।इननशामुक्तिकेंद्रकेरूपमेंपंजीकरणनहींहोनेकेकारणनशेकेआदीमरीजोंकोसहीउपचारनहींमिलरहाहै।

बीडीपांडेअस्पतालहोसकताहैविकल्प

नशामुक्तिकेंद्रकेमानकोंकोपूराकरनेकेलिएकेंद्रमेंएकमनोचिकित्सक,काउंसलिंगविशेषज्ञऔरविशेषप्रशिक्षणप्राप्तनर्सोंकीआवश्यकताहोतीहै।संयोगवशबीडीपांडेजिलाअस्पतालमेंमनोचिकित्सकऔरकाउंसलिंगविशेषज्ञकेसाथहीनशामुक्तिकेलिएप्रशिक्षणप्राप्तनर्सेभीहैं।जिसयहअस्पतालनशामुक्तिकेंद्रस्थापितकरनेकेलिएविकल्पकेरूपमेंकार्यकरसकताहै।

जानिएक्‍याकहतेहैंमनोचिकित्सक

डॉ.गिरीशपांडे,मनोचिकित्सकबीडीपांडेअस्पतालनेबतायाकिशुरुआतमेंशौककेतौरपरशुरूकियानशायुवाओंकीआदतबनरहाहै।नशाव्यक्तिकोमानसिकतौरपरकमजोरकरदेताहै।शराबजैसेनशेकाउंसलिंगकेमाध्यमसेआसानीसेछुड़ाएजासकतेहै,लेकिनस्मैकऔरनशीलीदवाइयोंकानशाआसानीसेनहींछूटता।इसकेलिएव्यक्तिकोकाउंसलिंग,समुचितदेखरेखकेसाथहीदवाइयोंकीभीमददलेनीपड़तीहै।जिसकेलिएअलगसेकेंद्रहोनाजरूरीहै।हरमाहअस्पतालमें150से200लोगोंकोपरामर्शदियाजाताहै,जिसमेंसेअधिकतरनशेकेआदीहोतेहै।

जिलाविधिकसेवाप्राधिकरणदेरहायुवाओंकानयाजीवन

नशेकीगिरफ्तमेंफंसेयुवाओंकोजिलाविधिकसेवाप्राधिकरणनयाजीवनदेरहाहै।प्राधिकरणकीओरसेजहांसमयसमयपरस्कूलोंऔरकॉलेजोंमेंजागरूकताअभियानचलायाजारहेहै।नशेकीगिरफ्तमेंफंसेयुवाओंकोइलाजकेलिएनशामुक्तिकेंद्रभेजाजारहाहै।

यहभीपढ़ें:प्रतिमाह30हजाररुपयेवेतनदेनेवइंटरनेटकीमांगकोलेकरराशनविक्रेतादेंगेधरना

यहभीपढ़ें:कोरोनावायरसकोलेकरभारत-नेपालबॉर्डरपरअलर्टजारी,कैंपलगाकरहोरहीजांच