• Home
  • उत्तराखंडः कहर बरपा गई बारिश

उत्तराखंडः कहर बरपा गई बारिश

इसबारसोमवार(18अक्तूबर)कोछोड़करशुक्रवार(15अक्तूबर)सेलेकरमंगलवार(19अक्तूबर)तकछुट्टियांहोनेकेचलतेइसवीकेंडउत्तराखंडकेअधिकतरपर्यटनकेंद्रसैलानियोंसेभरेपड़ेथे.लोगराज्यकेनैसर्गिकदृश्योंकेआनंदमेंमग्नथे.तीर्थयात्रीभीचारधामकीयात्रामेंनिकलपड़ेथे.इसबीच17अक्तूबरसेपहाड़ोंमेंबारिशशुरूहोगईजिसेमहजरूटीनबारिशमानकरलोगइसकेबंदहोनेकाइंतजारकरनेलगे.लेकिनयहबारिशसामान्यनहींथी.यहबढ़तीहीजारहीथी.बारिशकेचलतेपहाड़ोंमेंभूस्खलनऔररोडबाधितहोनेकेसमाचारमिलनेशुरूहुए.विभिन्नशहरों-कस्बोंसेसंपर्ककटनेलगा.नैनीतालऔररामनगरमेंअचानकपानीफैलनेसेबाढ़केहालातपैदाहोगए.

नैनीतालकीनैनीझीलकापानीउसकेचारोंतरफकीसड़कोंऔरबस्तीसमेतबाजारतकफैलनेलगा.झीलकिनारेअपरमालरोड,लोअरमालरोड,फ्लैट्समैदान,तल्लीतालबाजारऔरनैनादेवीमंदिरजलमग्नहोगए.किसीकोविश्वासहीनहींहोरहाथाकिनैनीतालमेंभीऐसीबाढ़आसकतीहै.प्रशासननेसिंचाईविभागकेअधिकारियोंकोझीलकेदोनोंगेटपूरीक्षमताकेसाथखोलकरपानीकेस्तरकोकमकरनेकोकहा.दोनोंगेटखोलदिएगए,लेकिनबारिशकेलगातारजारीरहनेकेकारणझीलकाजलस्तरघटनेकानामनहींलेरहाथा.नैनीतालकायहनजारादेखयहांघूमनेआएपर्यटकभीभौचक्केरहगए.नैनीतालकेसभीमार्गखतरनाकभूस्खलनहोनेसेअवरुद्धहोगएथे.पर्यटकोंकोहोटलोंमेंहीकैदरहनापड़ा.ऐसेमेंप्रशासनकोसेनाबुलानीपड़ी.सेनानेबाजारोंकेदुकानोंमेंकैदहोगएदुकानदारोंऔरपर्यटकोंकोरेस्क्यूकिया.

ऐसाहीनजारारामनगर-रानीखेतरोडकेबीचरामनगरसे25किलोमीटरदूरमोहानकाभीथा.मोहानमेंकोसीनदीकापानीघुसआनेसेवहांबनेकईहोटलऔररिजॉर्ट्सकोजलमग्नहोरहेथे.यहां18अक्तूबरकोलेमनट्रीनामकरिजॉर्टमेंएकशादीकेसिलसिलेमेंदिल्ली,गाजियाबादऔरमुरादाबादसेकरीब150मेहमानपहुंचेहुएथे.लेकिनमंगलवारकीसुबहजबउन्होंनेआंखेंखोलीतोवेचारोंतरफसेपानीमेंघिरचुकेथे.रिजॉर्टकेचारोंतरफपानीघुसनेसेउनकेवाहनजलमग्नहोगएथे.ऐसानजारादेखकरसभीलोगोंमेंडरकामाहौलपैदाहोगया.प्रशासनऔरराज्यआपदारिस्पॉन्सफोर्स(एसडीआरएफ)कीटीमोंनेट्रैक्टरोंऔरअन्यमाध्यमोंसेरिजॉर्टमेंफंसेलोगोंकोसकुशलबाहरनिकाला.

मौसमविज्ञानकेंद्रकेनिदेशकएवंवरिष्ठमौसमविज्ञानीविक्रमसिंहकेमुताबिक,अटलांटिकऔरभूमध्यसागरसेचलीहवाओंकेचलतेपश्चिमीविक्षोभकीसक्रियतासेयहबारिशहुई.येहवाएंअफगानिस्तान,पाकिस्तानहोतेहुएउत्तराखंडपहुंची.पश्चिमीविक्षोभकीसक्रियताऔरदक्षिणी-पूर्वीहवाओंकेमिलजानेसेहुईमूसलाधारबारिशने100सालसेभीअधिकपुरानेरिकॉर्डकोभीतोड़दिया.कुमाऊंमंडलमेंइसबारिशनेजमकरतबाहीमचाईजिसकामुख्यकेंद्रनैनीतालजिलाथा.इससेपहलेनैनीतालजिलेकेमुक्तेश्वरमें107सालपहले18सितंबर,1914को254.5मिलीमीटरबारिशदर्जहुईथी.लेकिनइसबारलगातार24घंटेमेंमुक्तेश्वरमें340.8मिलीमीटरऔरनैनीतालमें530मिमीबारिशरिकॉर्डकीगई.इसबारिशकेकारणराज्यकोअनुमानित6हजारकरोड़रुपएसेअधिककानुक्सानउठानापड़ाहै.

हालांकि,19अक्तूबरकीशामसेबारिशबंदहोगई,लेकिनइसकीतबाहीकेनिशानयहां-वहांबिखरेपड़ेहैं.राज्यमेंकईसड़कोंऔरपुलोंकोनुक्सानपहुंचाहै.गौलानदीपरबनेपुलकासंपर्कमार्गबहगया.पूरेउत्तराखंडमेंदोदिनोंकेभीतरमकानढहने,भूस्खलनकीवजहसेघरोंकेगिरनेऔरउसकीचपेटमेंआनेतथापानीकेप्रवाहमेंबहजानेसे64लोगोंकोजानसेहाथधोनापड़ा.वहीं,11लोगअबभीलापताहैंऔर22लोगघायलहैं.बारिशकीवजहसे34सेअधिकलोगोंकीजानअकेलेनैनीतालजिलेमेंगईहै.वहीं,50करोड़रूपएसेअधिककीसरकारीसंपत्तिबर्बादहुईहै.नैनीतालकेजिलाधिकारीनेआपदासेहुएनुक्सानकेआकलनकेलिएप्रशासनकी20टीमेंगठितकीहै,जोनुक्सानकाआकलनकरजिलाप्रशासनकोरिपोर्टदेंगी.

बारिशकीवजहसेहालातऐसेहोगएथेकिराज्यसरकारनेदोवायुसेनाकेहेलिकॉप्टरपंतनगरएयरपोर्टपरखड़ेकरवाए.उनकीमददसेरामनगरकेसुंदरखालक्षेत्रमेंकोसीकीबाढ़सेघिरकरफंसेग्रामीणोंकोनिकालागया.शारदानदीकेटनकपुरक्षेत्रकेबाढ़सेघिरेलोगोंकोभीउससेनिकालागया.हालांकि,कईजगहोंपरलोगपानीसेघिरेअबभीपरेशानहैं.20अक्तूबरकोरामनगरकेसमीपचुकमगांवकेग्रामप्रधानलक्ष्मणसिंहनेबतायाकिउनकेगांवकेलोगोंनेकोसीनदीकापानीगांवमेंघुसनेकीवजहसेपूरीरातजंगलमेंबिताई.गांवके25घरपानीकेबहावमेंबहगए.गांवतकजानेकाआजतककोईरास्तानहींबनाहैऔरलोगकोसीनदीकेपानीकेबढ़नेपरआजभीदहशतमेंआजातेहैं.यहगांवकईबारबाढ़कीविभीषिकाझेलचुकाहै.

राज्यकेउच्चहिमालयीयक्षेत्रोंमेंट्रेकिंगऔरमाउंटेनियरिंगकरनेआएदलभीबारिशकेबादफंसगएथे.गंगोत्रीमेंबारिशऔरबर्फबारीकेकारण30पर्यटकोंकाएकदल18अक्तूबरकीरातभरदेवगाड़केपासफंसारहा.उसेदूसरेदिनपुलिसनेनिकाला.उत्तरकाशीजिलेसेहिमाचलकीतरफट्रेककरकेजानेकेप्रयासमें11सदस्यीयएकट्रेकिंगदललापताहोगया.बागेश्वरजिलेकेसुंदरढूंगाग्लेशियरकेट्रैककोगएचारट्रेकरकीमौतहोगई.इसीजिलेमेंकफनीग्लेशियरट्रेककोगए20ट्रेकरलापताहोगए.उत्तरकाशीकीचीनसीमापरआइटीबीपीकीपेट्रोलिंगकेसाथगएतीनपोर्टरमृतमिले.

हरिद्वारमेंभीगंगानदीकाजलस्तर19अक्तूबरकोचेतावनीकेनिशान,294मीटरसेलगभग0.35सेंटीमीटरऊपरथा.ठीक17सालपहलेअक्तूबरमेंही19और20तारीखकोगंगाखतरेकेनिशानकोपारकरगईथी.लेकिन,तबइसतरहखतरनाकहालातनहींबनेथे.वहीं,ऋषिकेशमेंगंगाकाजलस्तरबढ़नेसेराफ्टिंगकोरोकनापड़ा,जोकिहजारोंलोगोंकेलिएरोजगारकासाधनहै.हजारोंपर्यटकबुकिंगहोनेकेबावजूदराफ्टिंगकिएबगैरवापसलौटरहेहैं.इससेराफ्टिंगसंचालकोंकोभीनुक्सानहोरहाहै.वहीं,मैदानीक्षेत्रोंमेंधानकीफसलभीबारिशकीभेंटचढ़गई,जिससेकिसानोंकोभारीनुक्सानझेलनापड़रहाहै.

राज्यमेंमचीतबाहीकीगंभीरताकोदेखतेहुएकेंद्रीयगृहमंत्रीअमितशाहनेभीआपदाप्रभावितक्षेत्रोंकादौराकिया.20अक्तूबरसेमौसमखुलगयाहै,लेकिनसड़कनेटवर्कपूरीतरहबहालनहींहोनेकेकारणलोगअबभीजगह-जगहफंसेहुएहैं.जाहिरहै,इसबेमौसमबारिशनेएकबारफिरउत्तराखंडकोसांसतमेंडालदिया.