• Home
  • उत्तराखंड में अब आसानी से बनेगा अटल आयुष्मान योजना का कार्ड

उत्तराखंड में अब आसानी से बनेगा अटल आयुष्मान योजना का कार्ड

देहरादून,जेएनएन।अटलआयुष्मानउत्तराखंडयोजनासेजुड़नाअबऔरभीआसानहोगयाहै।गोल्डनकार्डबनानेकीप्रक्रियामेंतमामपेचीदगीदूरकरदीगईहै।इसेआसानकियागयाहै।

गतवर्षप्रदेशमेंअटलआयुष्मानउत्तराखंडयोजनाकीशुरुआतकीगईथी।इसमेंपांचलाखतककेनिश्शुल्कउपचारकीव्यवस्थाहै।अबतकप्रदेशमें32लाखगोल्डनकार्डबनचुकेहैं।वहीं,लक्ष्य85लाखकार्डबनानेकाहै।

योजनाकेअध्यक्षडीकेकोटियानेबतायाकिगोल्डनकार्डबनानेमेंतीनतरहकाडाटाइस्तेमालमेंलायाजारहाथा।आर्थिक,सामाजिकएवंजातीयजनगणनाकेआधारपरप्रदेशके5लाख47हजारपरिवारोंकोइसयोजनामेंशामिलकियागया।दूसराडाटाराष्ट्रीयखाद्यानसुरक्षायोजनासेजुड़ाथा।परइसमेंकईमामलोंमेंराशनकार्डकेनंबरमेंभिन्नताआरहीथी।

एकडाटामुख्यमंत्रीस्वास्थ्यबीमायोजनाकाथा।परइसकेभीमहज12लाखहीकार्डबनेथे।ऐसेमेंआचारसंहिताकेदौरानजोवक्तहमेंमिलाउसकाउपयोगहमनेपूरीप्रक्रियाकेसरलीकरणमेंकिया।

उन्होंनेबतायाकिआर्थिक,सामाजिकएवंजातीयजनगणनाकेशेष14लाखपरिवारोंकाडाटाजुटालियागयाहै।इसडाटाकेआधारपरकार्डबनानेमेंतेजीआएगी।इसकेअलावामुख्यमंत्रीकाएकपत्रभीलोगोंकोप्रेषितकियाजारहाहै।इसमेंपरिवारकाविवरण,राशनकार्डकानंबरवक्यूआरकोडदियागयाहै।इससेभीगोल्डनकार्डतुरंतबनजाएगा।

सीएमकीपातीपरमिलेगाइलाज

मुख्यमंत्रीकेपत्रकेमाध्यमसेलाभार्थीगोल्डनकार्डनहोनेपरभीउपचारलेपाएंगे।यहपत्रआशाओंद्वाराघर-घरपहुंचायाजाएगा।यहपत्रफरवरीअंततक छपकरआगएथे,परकुछसमयबादहीआचारसंहितालगगई।ऐसेमेंयहकार्यअधरमेंलटकगया।परअबइसेदोबाराशुरूकियाजारहाहै।

राज्यकर्मचारियोंपरफैसलाजल्द

राज्यकर्मचारियोंकोभीअबजल्दयोजनामेंशामिलकियाजाएगा।आचारसंहिताहटनेकेबादइसकीतैयारीशुरूकरदीगईहै।बतादें,मुख्यमंत्रीनेइसकीघोषणा26जनवरीकोकरदीथी।परकर्मचारीकुछबिंदुओंपरबदलावचाहतेथे।इसमेंपरिवारकीपरिभाषा,रेफरलकानियम,अंशदानवनेशनलपोर्टिबिलिटीप्रमुखथा।प्रस्तावशासनकोभेजाजाचुकाहै,परआचारसंहितालगजानेकेकारणइसपरनिर्णयनहींहुआथा।

रेफरलकेतयहोंगेमानक

अटलआयुष्मानयोजनाकेतहतअबरेफरलकेभीमानकतयहोंगे।कोटियाकेअनुसारअभीतकरेफरलएकसामान्यप्रैक्टिसकेतहतकियाजाताहै।परक्योंकिभुगतानसरकारकेस्तरसेहोनाहै,इसकामानकीकरणकियाजानाआवश्यकहै।अभीतकज्यादागड़बड़ीभीरेफरलकेनामपरहीहुईहै।ऐसेमेंकौन,किसकोऔरकिसपरिस्थितिमेंमरीजकोरेफरकरसकताहैइसकामानकतयहोगा।इसकाप्रस्तावभीतयकरलियागयाहै।

अटलआयुष्मानमेंसातऔरअस्पतालरडारपर

अटलआयुष्मानउत्तराखंडयोजनामेंसूचीबद्धसातऔरअस्पतालइंवेस्टिगेशनविंगकेरडारपरहैं।इनमेंप्रथमदृष्टयागड़बड़ीसामनेआईहै।जल्दहीइनअस्पतालोंपरकार्रवाईहोसकतीहै।इनमेंदेहरादूनकेभीअस्पतालशामिलहैं।

प्रदेशसरकारनेगतवर्षअटलआयुष्मानउत्तराखंडयोजनाकीशुरुआतकीथी।योजनामेंनिश्शुल्कउपचारकेलिए170सरकारीवनिजीअस्पतालोंकोसूचीबद्धकियागया।लेकिनछहमाहकेभीतरहीसरकारकेपासयोजनामेंफर्जीवाड़ेकीशिकायतेंआनेलगी।यहमामलेगलतढंगसेक्लेमलेनेवमरीजकेपासकार्डहोनेकेबावजूदशुल्कवसूलीसेजुड़ेथे।

अबतकआठअस्पतालोंपरअलग-अलगकार्रवाईकीजाचुकीहै।इसमेंस्पष्टीकरणतलबकरनेकेसाथहीअस्पतालकाअनुबंधनिरस्तकरचिकित्सककेखिलाफएफआइआर,अर्थदंड,सूचीबद्धतासेबाहरकरनाआदिशामिलहै।परलगातारहोरहीकार्रवाईकेबावजूदअस्पतालबाजनहींआरहेहैं।

अबदेहरादूनसमेतअन्यजनपदोंमेंसातऔरअस्पतालोंमेंगड़बड़ीसामनेआईहै।जिनकीजांचकीजारहीहै।योजनाकेअध्यक्षडीकेकोटियानेबतायाकिप्रथमदृष्टयाइनमेंगड़बड़ीसामनेआईहै।अबइंवेस्टिगेशनविंगइनगड़बड़ीकीजांचकररहीहै।पुष्टिहोनेपरअस्पतालोंकेखिलाफकड़ीकार्रवाईअमलमेंलाईजाएगी।

प्रेमनगरअस्पतालकीइमरजेंसी'आपात'स्थितिमें

राजकीयसंयुक्तचिकित्सालयप्रेमनगरमेंजरूरतकेमुताबिकइमरजेंसीमेडिकलऑफीसर(ईएमओ)तकनहींहैं।जिसकाखामियाजामरीजोंकोभुगतनापड़रहाहै।आपातकालीनसेवा24घटेचलतीहै,लेकिनअस्पतालमेंकेवलएकहीईएमओहैं।जिससेइमरजेंसीमें'आपात'स्थितिबनगईहै।

कैंटविधायकएवंपूर्वविधानसभाअध्यक्षहरबंसकपूरनेराजकीयसंयुक्तचिकित्सालयप्रेमनगरकानिरीक्षणकिया।मुख्यचिकित्साअधीक्षकडॉ.उमाकांतकंडवालनेउन्हेंबतायाकिचिकित्सालयमेंइमरजेंसीमेडिकलऑफिसरकेदोपदस्वीकृतहैं,लेकिनतैनातकेवलएकहीहै।एकअन्यचिकित्सककोस्थायीरूपसेजिलाकारागारसेसंबद्धकियागयाहै।इमरजेंसीतीनपालियोंमेंचलतीहै।

ईएमओकीकमीकेकारणअन्यचिकित्सकोंकीरोटेशनमेंड्यूटीलगाईजातीहै।जिसकीरात्रिशिफ्टहोतीहैउसेअगलेदिनछुट्टीदीजातीहै।ऐसेमेंमरीजोंकोदिक्कतकासामनाकरनापड़ताहै।यहभीबतायागयाकिहाईवेसेलगाहोनेकेकारणप्रेमनगरदुर्घटनासंभावितक्षेत्रहै।जिसकासीधादबावचिकित्सालयपरआताहै।परयहांहड्डीरोगविशेषज्ञतकनहींहै।जिसकाखामियाजामरीजभुगतरहेहैं।

सीएमएसनेअस्पतालकेएसीखराबहोनेकीसमस्याभीविधायककेसामनेरखी।इसकेअलावाअटलआयुष्मानयोजनासेजुड़ीजानकारीभीउन्हेंदी।विधायकनेकहाकिप्रदेशसरकारजनताकोसुलभस्वास्थ्यसेवाएंप्रदानकरनेकोतत्परहै।लिहाजाप्रेमनगरचिकित्सालयकीसुविधाओंमेंजल्दसुधारकियाजाएगा।उन्होंनेभरोसादिलायाकिवहस्वयंइसविषयमेंमुख्यमंत्रीसेवार्ताकरेंगे।इसअवसरपरमंडलअध्यक्षडॉ.उदयसिंहपुंडीर,हरीशकोहली,दीपकभाटिया,अर्जुनकोहलीआदिउपस्थितरहे।

बिनाईंधनखुशियोंकीसवारीपरब्रेक

प्रेमनगरचिकित्सालयमेंतैनातखुशियोंकीसवारीकालाभप्रसूताओंकोनहींमिलपारहाहै।इसयोजनाकेतहतडिलिवरीकेबादजच्चा-बच्चाकोघरछोड़नेकीव्यवस्थाहै।परयहांतैनातवाहनकेपहियेपिछले15दिनसेथमेहैं।कारणहैईंधनकीव्यवस्थानहोना।बतादें,खुशियोंकीसवारीकेसंचालनकाजिम्माअबमुख्यचिकित्साधिकारियोंकोदेदियागयाहै।प्रतिकेस450रुपयेनिर्धारितकिएगएहैं।परअभीनड्राइवरकीतैनातीहुईहैऔरनईंधनकेलिएबजटहीनआवंटितहुआहै।जिससेइससेवाकालाभनहींमिलपारहा।

धूलफांकरहेई-हॉस्पिटलकेकम्प्यूटर,उपकरण

दूनमेडिकलकॉलेजचिकित्सालयकोई-हॉस्पिटलबनानेकीराहमेंसॉफ्टवेयरकाअडंगालगगयाहै।इसयोजनाकेलिएआएकम्प्यूटरएकअर्सेसेधूलफांकरहेहैं।बतायागयाकिजिसकंपनीनेसॉफ्टवेयरइंस्टॉलकरनाहै,उसकाभुगतानरुकाहुआहै।जिसपरवहकाममेंरुचिनहींदिखारही।

दरअसलप्रदेशभरमेंई-हॉस्पिटलयोजनाशुरूकीगईहै।जिसमेंराष्ट्रीयस्वास्थ्यमिशनकेतहतसुविधाएंजुटाईजारहीहैं।दूनअस्पतालमेंभीइसयोजनाकेतहतकम्प्यूटरऔरअन्यउपकरणउपलब्धकराएगएहैं।परसॉफ्टवेयरअबतकइस्टॉलनहींहुआहै।

बतायागयाकिदिल्लीकीकंपनीसिल्वरटेकद्वारासॉफ्टवेयरइंस्टॉलकियाजानाहै।यहकंपनीदेशभरमेंई-हॉस्पिटलकाकामदेखरहीहै।प्रदेशकेकईअस्पतालोंमेंवहअपनाकामपूराभीकरचुकीहै।भुगताननहोनेसेयहप्रक्रियाअधरमेंलटकगईहै।येबकायाढाईलाखसेअधिककाबतायाजारहाहै।

नोडलअधिकारीडॉ.सुशीलओझाकाकहनाहैकिबससॉफ्टवेयरइंस्टॉलहोनेकाइंतजारहै।इसकेबादकर्मियोंकोप्रशिक्षणदेकरयोजनाशुरूकरदीजाएगी।इधर,दूनमेडिकलकॉलेजकेप्राचार्यडॉ.आशुतोषसयानाकाकहनाहैकिइसयोजनाकासीधाफायदामरीजोंकोमिलेगा।कंपनीकेबकायेकेबारेमेंउन्हेंजानकारीनहींहै।अबजबकिआचारसंहितासमाप्तहोचुकीहै,समस्याकासमाधानकरलियाजाएगा।

क्याहोगाफायदा

अस्पतालको20कम्प्यूटरमिलचुकेहैं।ई-हॉस्पिटलमेंदूनहॉस्पिटलकीसारीसुविधाएंजिसमेंपैथोलॉजी,रेडियोलॉजीऔरओपीडी-आइपीडीसमेततमामसुविधाओंकास्टेटसऑनलाइनअपडेटहोगा।इसपूरेसिस्टमको2फेसमेंपूराकियाजाएगा।सबसेपहलेमरीजकोएकस्पेसिफिकयूजरआइडीदीजाएगी।जोपूरेदेशमेंमान्यहोगी।इसआइडीकेजरिएमरीजदूनअस्पतालकीसारीसुविधाओंकोघरसेचेककरअपनारजिस्ट्रेशनकरसकेंगे।

इसकेअलावापैथोलॉजीऔररेडियोलॉजीविभागकीरिपोर्टकास्टेटसऔरपेमेंटभीघरसेहीकरसकेंगे।वहइलाजकरानेकेलिएघरबैठेहीऑनलाइनरजिस्ट्रेशनकरासकेंगे।इसकेजरिएमरीजकोकिसडॉक्टर्सकोकबऔरकहांदिखानाहैयेभीजानकारीमिलजाएगी।इससेमरीजोंकोलंबी-लंबीकतारोंसेनिजातमिलजाएगी।

यहभीपढ़ें:डेंगू,स्वाइनफ्लू,जीकावायरससेनिपटनेकोस्वास्थ्यविभागतैयार

यहभीपढ़ें:मरीजकीजांचबाहरसेकरानेवालाचिकित्सकओपीडीसेनिष्कासित

यहभीपढ़ें:एम्ससेकरनेजारहेहैंएमबीबीएस,तोइसखबरकोपढ़नानाभूलें

लोकसभाचुनावऔरक्रिकेटसेसंबंधितअपडेटपानेकेलिएडाउनलोडकरेंजागरणएप