• Home
  • ठंड अभी गई नहीं कि रेहला में गहराने लगा पेयजल संकट

ठंड अभी गई नहीं कि रेहला में गहराने लगा पेयजल संकट

विश्रामपुर,पलामू:विश्रामपुरनगरपरिषदस्थितरेहलावासीसालोभरपेयजलकेलिएटैंकरपरनिर्भररहतेहैं।जाड़ाकीशुरूहोतेहीयहयहांजलसंकटगहरानेलगाहै।यहलोगोंकेलिएनियतिबनकररहगईहै।नगरपरिषदक्षेत्रमेंबढ़तीजनसंख्याकेअनुपातमेंपानीकीजरूरतपूरानहींहोपारहाहै।प्रशासनभीपेयजलापूर्तिसंकटकेप्रतिगंभीरनहींदिखरहाहै।इससेलोगोंकीपेयजलसमस्याविकटहोतीजारहीहै।रेहलाबीसीसीएलजनसेवाट्रस्टटैंकरसेलोगोंकोपानीदेरहाहै।इसमेंभीमारा-मारीशुरूहोजातीहै।बढ़तीजनसंख्यावलोगोंकीजरूरतकेअनुकूलएबीसीआइएलकीओरसेस्थापितबीसीसीएलजनसेवाट्रस्टकीओरसेउपलब्धकराईजारहीपानीपर्याप्तनहींहै।मजबूरनलोगदूषितपानीपीरहेहैं।ऐसेमेंलोगपानीजनितबीमारीकेशिकारहोरहेहैं।बतायाजाताहैकियहांकाभूमिगतजलकाफीखाराहोचुकाहै।पानीपीनेकेलायकनहीहै।रेहलाग्रासिमइंडस्ट्रीजकीओरसेशुद्धपेयजलमुहैयाकरानेकोलेदोटेंकरकीव्यवस्थाकीहै।यहरेहलाक्षेत्रमेंपूरेदिनभ्रमणकरपेयजलउपलब्धकरातेआरहाहै।

सूखनेलगीकोयलवभेलवानदी

गर्मीकीआहटशुरूहोतेहीविश्रामपुरनगरपरिषदमेंपेयजलसंकटगहरानेलगाहै।फरवरीमहीनेमेंहीनगरपरिषदकीलाईफलाईनकोयलवभेलवानदीसूखनेलगीहै।क्षेत्रकेसभीतालाबवकुएंकाजलस्तरगिरनेलगाहै।नगरपरिषदक्षेत्रकेचापाकलभीजवाबदेनेलगेहैं।यहीस्थितिरहीतोगर्मीकेमौसममेंपेयजलकीसमस्याविकरालरूपधारणकरलेगा।मालूमहोकिगर्मीकेदिनोंमेंनगरपरिषदकी45हजारआबादीपेयजलसंकटसेजूझतीहै।

पेयजलापूर्तियोजनाफेल

पेयजलसंकटकेनिदानकोलेकर1999मेंएकीकृतबिहारकेतत्कालीनमंत्रीअब्दुलबारीसिद्दीकीनेरेहलापेयजलापूर्तियोजनाकीआधारशीलारखीथी।99लाखकीलागतसेबननेवालीइसपेयजलापूर्तियोजनासेएकबूंदपानीभीलोगोंकोमय्यसरनहीहोपायाहै।इसयोजनाकेचालूहोनेसेपहलेहीमृतघोषितकरदियागया।विभागीयअभियंतायोजनाकेलिएबनेपानीटैंककोअयोग्यघोषितकरदियाथा।सवालयहउठताहैकिजबवाटरटैंकखराबबनाथातबसंवेदकपरक्याकार्रवाईहुई।

वृहदग्रामीणपेयजलापूर्तियोजनाअधूरी

विश्रामपुरमें2011मेंपुन:पेयजलापूर्तियोजनाशुरूहुई।इसकानामविश्रामपुरवृहदग्रामीणपेयजलापूर्तियोजनादियागया।इसयोजनाकाशिलान्यासतत्कालीनविधायकचंद्रशेखरदुबेउर्फददईदुबेनें5मार्च2011कोकियाथा।9करोड़58लाखकीलागतसेबननेवालीइसयोजनाकाकामआंध्रप्रदेशकीविश्वाकंपनीकोदियागयाथा।बावजूदयहयोजनाआजभीअधूरीहै।इसयोजनाकेलिएपानीकाटैंकभीनहीबनपायाहै।लगभगएककिमीतककंपनीनेसिर्फपाईपबिछायाहै।विभागीयसूत्रोंकीमानेतोकंपनीको4करोड़सेभीज्यादाकाभुगतानलेचुकीहै।इसकेबादकंपनीकामछोड़करचलीभीगई।योजनाखटाईमेंपड़गई।एकबारफिरनवंर2017मेंकार्यकछुआगतिसेशुरुकियागयाहै।