• Home
  • सरकारी डिस्काम पर चल सकता है दिवालिया कानून का चाबुक, केंद्र ने जारी किया मेमोरेंडम, बैंक उठा सकते हैं कदम

सरकारी डिस्काम पर चल सकता है दिवालिया कानून का चाबुक, केंद्र ने जारी किया मेमोरेंडम, बैंक उठा सकते हैं कदम

जयप्रकाशरंजन,नईदिल्ली।बिजलीबनानेवालीकंपनियांकेअरबोंरुपयेलेकरबैठींदेशकीदर्जनोंबिजलीवितरणकंपनियोंकोअबसतर्कहोजानेकीजरूरतहै।अगरसमयपरबिजलीवितरणकंपनियों(डिस्काम)नेपैसेनहींलौटाएतोइनकेखिलाफनएदिवालियाकानूनयानीइंसाल्वेंसीबैंकरप्सीकोड(आइबीसी)केतहतकार्रवाईभीहोसकतीहै।केंद्रीयबिजलीमंत्रालयकास्पष्टतौरपरमाननाहैकिराज्यसरकारोंकेतहतकामकरनेवालीडिस्कामपरआइबीसी,2016केतहतकार्रवाईहोसकतीहै।

सुप्रीमकोर्टकेसंबंधितफैसलोंऔरबिजलीकानूनकीव्यापकतौरपरसमीक्षाकेबादबिजलीमंत्रालयइसनतीजेपरपहुंचाहै।आठनवंबर,2021कोइसबारेमेंएकआवश्यकमेमोरेंडमभीजारीकरदियागयाहै।बिजलीमंत्रालयकीतरफसेइसबारेमेंकानूनऔरन्यायमंत्रालयकेसचिवकोएकआधिकारिकमेमोंडेरमभेजागयाहै।

इसलिएलानापड़ामेमोरेंडम

मेमोरेंडमकीजरूरतदरअसलतमिनलाडुकीजेनरेशनवडिस्ट्रीब्यूशनकंपनी(टेनजेडको)केखिलाफसाउथइंडियाकारपोरेशनप्राइवेटलिमिटेडकीतरफसेदायरमामलेकेचलतेलानीपड़ी।मद्रासहाईकोर्टमेंदायरमामलेमेंयहदलीलदीगईथीटेनजेडकोकेखिलाफआइबीसीकीधारानौकेतहतकार्रवाईनहींकीजासकतीक्योंकिवहएकसरकारीनिकायहै।

बिजलीमंत्रालयसेमांगीथीराय

वैसेयहमामलासीधेतौरपरबिजलीमंत्रालयसेजुड़ानहींथालेकिनकेंद्रीयकानूनऔरन्यायमंत्रालयनेउससेभीरायमांगीथी।बिजलीमंत्रालयकीतरफसेभेजेगयेमेमोरेंडममेंसुप्रीमकोर्टकीतरफसेहिंदुस्तानकंस्ट्रक्शनकंपनीऔरभारतसरकारकेबीचचलेमामलेमेंदिएगएफैसलेकाउदाहरणदियागयाहै।

सुप्रीमकोर्टनेदियाहैयहफैसला

बिजलीमंत्रालयकेमुताबिकसुप्रीमकोर्टनेअपनेफैसलेमेंसिर्फउन्हींसरकारीनिकायोंकोआइबीसीसेअलगरखनेकीबातकहीहैजोसरकारकेएकवैधानिकअंगकेतौरपरकामकरतेहोंक्योंकिऐसेनिकायएकवैधानिककामकरतेहैंऔरउनकेप्रबंधनकोजिम्मेदारनहींठहरायाजासकता।हालांकिऐसेनिकायजोप्रोफेशनलआधारपरकामकरतेहैं,उन्हेंइसकेदायरेमेंनहींलायाजासकताहै।सरकारीबिजलीवितरणकंपनियोंकागठनसरकारीकार्योंकेलिएनहींकियागयाहै।

बिजलीकानूनऔरआइबीसीदोनोंअलग-अलग

टेनजेडकोजैसीदूसरीसरकारीकंपनियोंकागठनकंपनीकानूनकीधारा2(45)केतहतकियागयाहै।कंपनीकानून,2013केतहतगठितबिजलीवितरणकंपनियांपूरीतरहसेआइबीसीकीधारा3(7)केतहतशामिलकीजाएंगी।साथहीदेशमेंकईनिजीबिजलीवितरणकंपनियांभीहैं।

दूसरीबिजलीवितरणकंपनियोंपरभीकार्रवाईसंभव

बिजलीमंत्रालयनेयहभीस्पष्टकियाहैकिबिजलीकानूनऔरआइबीसीदोनोंअलग-अलगहैंऔरबिजलीवितरणकंपनियोंकोलेकरइनकेप्रविधानएक-दूसरेकोकाटतेनहींहैं।ऐसेमेंआइबीसीकेतहतएनसीएलटीऔरएनसीएलएटीटेनजेडकोजैसेदूसरीबिजलीवितरणकंपनियोंकेखिलाफकार्रवाईकीजासकतीहै।