• Home
  • सीमित संसाधनों के साथ अधिक उत्पादन के लिए आधुनिक तकनीकों का सहारा जरूरी

सीमित संसाधनों के साथ अधिक उत्पादन के लिए आधुनिक तकनीकों का सहारा जरूरी

जागरणसंवाददाता,हिसार।

सीमितसंसाधनोंकेसाथफसलोंसेअधिकउत्पादनहासिलकरनाएकचुनौतीबनगयाहै।इसकेअलावालगातारभूमिगतजलस्तरभीघटरहाहै।इसकेलिएकिसानोंकोआधुनिकतकनीकोंकासहारालेनापड़ेगा।कृषिविज्ञानकेंद्रकुरूक्षेत्रमेंखेतीमेंजलसंरक्षणविषयपरकार्यक्रमआयोजितहुआ।चौधरीचरणसिंहहरियाणाकृषिविश्वविद्यालयकेकुलपतिप्रोफेसरबीआरकाम्बोजनेकहाकिलगातारकृषियोग्यभूमिकमहोतीजारहीहैऔरनिरंतरमौसममेंपरिवर्तनहोरहेहैं।इसकेअलावाआधुनिकतकनीकोंकीजानकारीवमौसमसंबंधीपूर्वानुमानभीकिसानोंतकसहीतरीकेसेनहींपहुंचपारहेहैं।इसलिएफसलोंसेउचितपैदावारहासिलकरनेकेलिएकिसानोंकोकाफीमेहनतकरनीपड़तीहैं।उन्होंनेकृषिविज्ञानकेंद्रोंकेविज्ञानियोंसेकहाकिवेविश्वविद्यालयकाआइनाहोतेहैंऔरकिसानोंतकविश्वविद्यालयकीआधुनिकतकनीकोंवउन्नतकिस्मोंकीजानकारीपहुंचानाउनकानैतिकफर्जबनताहै।उन्होंनेविज्ञानियोंसेआह्वानकियाकिवेज्यादासेज्यादाकिसानोंकोकृषिविज्ञानकेंद्रोंवविश्वविद्यालयकेसाथजोड़करउन्हेंनवीनतमजानकारियोंसेअवगतकराएं।साथहीसमय-समयपरकिसानोंकेलिएजागरूकताशिविरआयोजितकरउन्हेंफसलोंकीसमयपरबिजाई,कटाईवकढ़ाईकीजानकारीदें।इसदौरानउन्होंनेकेंद्रमेंपौधारोपणभीकिया।

समय-समयपरकिसानोंकेलिएजारीकरेंविज्ञानीसलाह

विज्ञानीसमय-समयपरवैज्ञानिकसलाहभीकिसानोंकेलिएजारीकरतेरहेंताकिकिसानअपनीफसलकीसहीसेदेखभालकरसके।कुलपतिनेकिसानोंसेभीआह्वानकियाकिवेबीमारियोंकीरोकथामकेलिएविश्वविद्यालयद्वारासिफारिशकिएगएकीटनाशकोंकाहीप्रयोगकरें।उन्होंनेकहाकिजलसंरक्षणसमयकीमांगहैऔरइसकेलिएकिसानराज्यसरकारकीयोजनामेरापानीमेरीविरासतकालाभउठारहेहैं।साथहीउन्होंनेकिसानोंसेधानकीसीधीबिजाईकरनेकाभीआह्वानकिया।उन्होंनेकिसानोंकोधानकीसीधीबिजाईकेबादफसलमेंआनेवालेखरपतवारोंसेनिपटनेकेलिएसमय-समयपरविज्ञानियोंसेसलाहलेकरखरपतवारनाशीकेप्रयोगकीसलाहदी।कृषिविज्ञानकेंद्रकेइंचार्जडा.प्रद्युमनभट्नागरनेकेंद्रमेंचलरहेअनुसंधानकार्योंकीजानकारीदी।

ऑनलाइनपरीक्षाकेंद्रकाकियानिरीक्षण

इसअवसरपरकेंद्रकेविज्ञानियों,आसपासगांवोंकेकिसानोंनेभीकार्यक्रममेंभागलिया।इसकेअलावाकुलपतिनेकृषिमहाविद्यालयकौलकाभीदौराकियाऔरवहांकेवैज्ञानिकोंसेरूबरूहोतेहुएकालेजकीगतिविधियोंकाजायजालिया।उन्होंनेआनलाइनपरीक्षाकेंद्रकानिरीक्षणकियाऔरकॉलेजकेसौंदर्यकरणवतकनीकीनवाचारपरकार्यकरनेकेलिएप्रेरितकिया।इसअवसरपरमहाविद्यालयकेप्राचार्यडा.पीएसपंवार,डा.आरएसगढ़वाल,डा.मानिद्रसिंहभीमौजूदरहे।