• Home
  • सबकुछ अपडेट है लेकिन बैंकों के विलय से अटका मातृत्व लाभ, जानें-पूरा मामला Aligarh news

सबकुछ अपडेट है लेकिन बैंकों के विलय से अटका मातृत्व लाभ, जानें-पूरा मामला Aligarh news

अलीगढ़,जेएनएन। विभिन्नसरकारीयोजनाओंकेलाभार्थियोंकीबैंकमेंनोयोरकस्टमर(केवाइसी)होनाजरूरीहै।केवाइसीअपडेटरहनीचाहिए।इनदिनोंप्रधानमंत्रीमातृवंदनायोजना(पीएमएमवीवाइ)समेतस्वास्थ्यविभागकीअन्ययोजनाओंकेलाभार्थियोंकीसमस्याबढ़ीहुईहै।दरअसल,पिछलेदिनोंकुछराष्ट्रीयकृतबैंकोंकाविलयहोनेसेबैंकोकेआइएफएससीकोडबदलगएहैं।इसवजहसेबहुतसेलाभार्थियोंकेभुगताननहींहोपारहे।सीएमओनेसभीलोगोंसेअपनीकेवाइसीअपडेटकरानेकीअपीलकीहै।

अस्पतालोंवबैंकोंकेचक्करकाटरहेलाभार्थी

इसयोजनाकेअंतर्गतपहलीबारमांबननेवालीमहिलाकोतीनकिश्तोंमेंपांचहजाररुपयेसीधेबैंकखातेमेंदिएजातेहैं।प्रसवचाहेसरकारीहोयानिजीअस्पतालमेंकरायागयाहो।योजनाकेतहतअबतकजिलेमें75,388पंजीकृतलाभार्थीहै।यहयोजनाजनवरी2017सेलागूहै।योजनाकेकाफीलाभार्थीइनदिनोंसीएमओकार्यालय,स्वास्थ्यइकाइयोंवबैंकोंकेचक्करकाटरहेहैं।क्योंकि,उनकीकिस्तअचानकरुकगईहैं।

गर्भवतीमहिलाकोतीनकिश्‍तोंमेंदीजातीहैपांचरुपयेकीधनराशि

अपरमुख्यचिकित्साअधिकारीडॉ.एसपीसिंहनेबतायाकियोजनाकेतहतपहलीबारगर्भवतीहोनेवालीमहिलाकोतीनकिश्तोंमेंपांचहजाररुपएकीधनराशिदीजातीहै,चाहेप्रसवसरकारीयानिजीअस्पतालमेंकरायाहो।पंजीकरणकेलिएमाता-पिताकाआधारकार्ड,मांकीबैंकपासबुककीफोटोकापीजरूरीहै।मांकाबैंकअकाउंटज्वाइंटनहींहोनाचाहिए।निजीअकाउंटहीमान्यहोगा।यदिबच्चेकाजन्महोचुकाहैतोमांऔरबच्चेदोनोंकेटीकाकरणकाप्रमाणिकपर्चाहोनाजरूरीहै।उन्होंनेबतायापंजीकरणकरानेकेसाथहीगर्भवतीकोप्रथमकिस्तकेरूपमेंएकहजाररुपएदिएजातेहैं।प्रसवपूर्वकमसेकमएकजांचहोनेपरदूसरीकिस्तकेरूपमेंदोहजाररुपएऔरबच्चेकेजन्मकापंजीकरणहोनेतथाबच्चेकेप्रथमचक्रकाटीकाकरणपूराहोनेपरतीसरीकिस्तकेरूपमेंदोहजाररुपएदिएजातेहैं।यहसभीभुगतानगर्भवतीकेबैंकखातेमेंहीकिएजातेहैं।बैंकोंकेविलयसेकेवाइसीअपूर्णहोनेकेकारणसमस्याहोरहीहै।

फोनपरनदेंबैंकखातासंबंधीजानकारी

डॉ.एसपीसिंहनेलाभार्थियोंसेफर्जीफोनकालसेसतर्करहनेकीअपीलकीहै।उन्होंनेबतायाकिकुछजालसाजयोजनाकेनामपरफोनकरलाभार्थियोंकेबैंकअकाउंटसंबंधितजानकारीलेकरउनकेसाथआर्थिकधोखाधड़ीकरनेकाप्रयासकरसकतेहैं।उन्होंनेबतायायोजनाकाकोईभीप्रतिनिधिलाभार्थीसेओटीपी(वनटाइमपासवर्ड)नहींपूछताहैऔरनहीसंवेदनशीलसूचनाएंमांगताहै।राज्यस्तरसेहेल्पलाइननंबर7998799804जारीकियागयाहै।इसहेल्पलाइननंबरपरलाभार्थीस्वयंहीकॉलकरकेयोजनाकेआवेदनसंबंधीतथाभुगताननहोनेपरआरहीसमस्याकानिराकरणप्राप्तकरसकतेहैं।