• Home
  • प्रधानमंत्री मोदी ने सफलतार्पूवक चुनाव संपन्न कराने के लिए अपने श्रीलंकाई समकक्ष को बधाई दी

प्रधानमंत्री मोदी ने सफलतार्पूवक चुनाव संपन्न कराने के लिए अपने श्रीलंकाई समकक्ष को बधाई दी

नयीदिल्ली,छहअगस्त(भाषा)प्रधानमंत्रीनरेंद्रमोदीनेबृहस्पतिवारकोअपनेश्रीलंकाईसमकक्षमहिंदाराजपक्षेकोउनकीपार्टीकेसंसदीयचुनावमेंशानदारप्रदर्शनकेलिएबधाईदी।श्रीलंकाकेप्रभावशालीराजपक्षेपरिवारद्वारानियंत्रितश्रीलंकापीपुल्सपार्टी(एसएलपीपी)बृहस्पतिवारकोघोषितकिएगएशुरुआतीपरिणामोंकेअनुसारसंसदीयचुनावमेंभारीजीतकीओरअग्रसरहै।प्रधानमंत्रीकार्यालयकीओरसेजारीएकबयानमेंकहागयाकिमोदीनेश्रीलंकाकीसरकारऔरवहांकीचुनावीसंस्थाओंकीतारीफकीक्योंकिकोविड-19महामारीकीदिक्कतोंकेबावजूदवहांप्रभावीतरीकेसेचुनावसंपन्नकराएगए।उन्होंनेचुनावोंमेंप्रभावीभागीदारीकेलिएश्रीलंकाकीजनताकीभीतारीफकीऔरकहाकियहदोनोंदेशोंकेमजबूतलोकतांत्रिकमानकोंकेअनुकूलहै।बयानकेअनुसारमोदीनेकहाकिआनेवालेपरिणाममेंएसएलपीपीशानदारप्रदर्शनकीओरबढ़रहाहैऔरयहउसकीजीतकीओरसाफइशाराकररहाहै।प्रधानमंत्रीनेइसकेलिएराजपक्षेकोबधाईऔरशुभकामनाएंदी।मोदीनेट्वीटकरकहा,‘‘आपसेबातकरनासुखदरहा।एकबारफिरआपकोबहुतसारीशुभकमनाएं।हमसाथमिलकरद्विपक्षीयरिश्तेकोआगेबढ़ायेंगेऔरअपनेरिश्तोंकोनईऊंचाईपरपहुंचाएंगे।’’सिंहलीबहुलदक्षिणक्षेत्रसेअबतकपांचपरिणामोंकीघोषणाकीगयीहै।इनमेंएसएलपीपीको60प्रतिशतसेअधिकमतमिलेहैं।एसएलपीपीकीनिकटतमप्रतिद्वंद्वीएकनयीपार्टीहैजिसकीस्थापनासजीथप्रेमदासानेकीहै।प्रेमदासानेअपनीमूलपार्टीयूनाइटेडनेशनलपार्टी(यूएनपी)सेअलगहोकरनयीपार्टीबनायीहै।चुनावपरिणामोंकेअनुसारयूएनपीचौथेस्थानपरहै।आधिकारिकपरिणामोंसेपताचलताहैकिमार्क्सवादीजनताविमुक्तिपेरामुना(जेवीपी)नेभीयूएनपीकीतुलनामेंबेहतरप्रदर्शनकियाहै।तमिलबहुलउत्तरक्षेत्रमें,मुख्यतमिलपार्टीकोजाफनामेंएकक्षेत्रमेंजीतमिलीहैजबकिराजपक्षेकीसहयोगीईलमपीपुल्सडेमोक्रेटिकपार्टी(ईपीडीपी)नेजाफनाजिलेकेएकअन्यक्षेत्रमेंतमिलनेशनलएलायंस(टीएनए)कोहरायाहै।मतदानबुधवारकोहुआथा।मतोंकीगिनतीसुबहशुरूहुई।मतोंकीगिनतीशुरूहोतेहीएसएलपीपीकेसंस्थापकबेसिलराजपक्षेनेकहाकिपार्टीनयीसरकारबनानेकेलिएतैयारहै।विश्लेषकोंकेअनुसारएसएलपीपी225सदस्यीयसंसदमेंआरामसेबहुमतहासिलकरलेगी।बेसिलराष्ट्रपतिगोतबायाराजपक्षेकेछोटेभाईहैं।प्रधानमंत्रीमहिंदाराजपक्षेउनकेसबसेबड़ेभाईहैं।राष्ट्रपतिकोउम्मीदहैकिएसएलपीपीकोदो-तिहाईबहुमतमिलेगा।इससेवहसंविधानमेंसंशोधनकरतेहुएराष्ट्रपतिपदकीशक्तियोंकोबहालकरसकेंगे।2015मेंसंविधानमेंसंशोधनकरतेहुएराष्ट्रपतिकेअधिकारोंमेंकटौतीकीगयीथी।