• Home
  • पंजाब में मार्च-अप्रैल के बाद मई में भी नहीं हुई बारिश, धान की रोपाई में खड़ा हो सकता है संकट, किसानों में मुश्किलें बढ़ी

पंजाब में मार्च-अप्रैल के बाद मई में भी नहीं हुई बारिश, धान की रोपाई में खड़ा हो सकता है संकट, किसानों में मुश्किलें बढ़ी

आशामेहता,लुधियाना।पंजाबमेंमार्च,अप्रैलकेबादमईभीबिनाबारिशकेनिकलरहाहै।मईकेपहलेहफ्तेमेंभीबारिशकीएकबूंदनहींबरसी।जबकि29अप्रैलकेबादसेपंजाबमेंहमेशाबारिशहोतीरहीहै।ऐसेमेंधानकीबिजाईकोलेकरकिसानोंकीचिंताबढ़गईहै।क्योंकिखेतोंमेंइससमयनमीपूरीतरहसेखत्महोचुकीहै,जिससेखेतसूखेपड़ेहैं।जिससेअबधानकीबिजाईकरनेवालेकिसानोंकीमुश्किलेंबढ़गईहै।

मौसमकेंद्रचंडीगढ़केअनुसारपंजाबमें29अप्रैलसे5मईतककीसामान्यबारिश39.8मिलीहै,लेकिनअभीतककेवल4.4मिलीमीटरबारिशहीहुईहै।विभागकेअनुसार29अप्रैलऔर5मईतकअमृतसरमें58.9मिलीमीटरबारिशहोजातीहै,लेकिनअभीतकहुईकेवल1मिलीमीटरहै।करीब98प्रतिशतकमबारिशहुईहै।इसीतरहजालंधरमें51.2मिलीमीटरबारिशहोजातीहै,लेकिनअभीतक2.5मिलीमीटरहुईहै।करीब95प्रतिशतकमबारिशहुईहै।वहींलुधियानामें37.5मिलीमीटरबारिशहोजातीहै,लेकिनअभीतकहुईकेवल13.7मिलीमीटरहै।करीब64प्रतिशतकमबारिशहुईहै।इसीतरहगुरदासपुरमें66.4मिलीमीटरबारिशहोजातीहै,लेकिनअभीतक3.3मिलीमीटरहुईहै।करीब95प्रतिशतकमबारिशहुईहै।

दूसरीतरफबठिंडामें22.2मिलीमीटरबारिशहोजातीहै,लेकिनअभीतक2.2मिलीमीटरहुई है।करीब87प्रतिशतकमबारिशहुईहै।वहींमोगामें23.5मिलीमीटरबारिशहोजातीहै,लेकिनअभीतक1.5मिलीमीटरहुई है।करीब94प्रतिशतकमबारिशहुईहै।रूपनगरमें60.1मिलीमीटरबारिशहोजातीहै,लेकिनअभीकेवल11.5मिलीमीटरहुई है।करीब81प्रतिशतकमबारिशहुईहै। इसीतरहहोशियारपुरमेंभी29अप्रैलसे5मईकेदौरानसामान्यबारिश57.4प्रतिशतहै,जबकिहुईकेवल2.5प्रतिशत।यहांभी95प्रतिशतकमबारिशहुईहै।पंजाबकेदूसरेजिलोंकाभीयहीहालहै।कृषिमाहिरोंकाकहनाहैकिधानकीरोपाईकेलिएखेतोंमेंनमीहोनाबेहदजरूरीहै,फिरचाहेधानकीसीधीबिजाईक्योंनहो।

पंजाबमें80दिनोंसेमौसमड्राईचलरहा

पीएयूकीमौसमवैज्ञानिकडा.केकेगिलकेअनुसारपिछले80दिनोंसेपंजाबमेंमौसमड्राईचलरहाहै।जिससेधरतीकेअंदरनमीखत्महोचुकीहै।बारिशनहोनेसेकिसानोंकोधानकीबिजाई(प्रीसोईंग)सेपहलेखेतमेंअधिकसींचनाहोगा,जिससेनमीबने।नमीहोगी,तभीधानकापौधास्थिररहसकेगा।सीधीबिजाईवालेखेतोंमेंतोइसकीजरूरतऔरहोगी।क्योंकिउसमेंखेतोमेंपानीखड़ानहींहोता।ऐसेमेंइसबारभूजलऔरनहरीपानीकाइस्तेमालअधिकहोगा।आगेजबअप्रैलकेआखरीहफ्तेऔरमईकेपहलेहफ्तेमेंबारिशहोजातीतोगेंहूकीकटाईकेबादखेतमेंआगेकीफसलकेलिएपर्याप्ततौरपरनमीरहतीथी।जिससेकिसानोंकोफसलकोसींचनेकीज्यादाजरूरतनहींहोतीथी।लेकिनइसबारधानकीखेतीकरनेवालेकिसानों केलिएगंभीरसंकटखड़ाहोसकताहै।पहलेसेहीकिसानमार्चअप्रैलमेंपड़ीभयंकरगर्मीकीवजहसेगेहूंकाकमउत्पादनहोनेपरदुखीहै।