• Home
  • पेंशन के मामले में दो श्रेणी बनाया जाना उचित नहीं,: गहलोत

पेंशन के मामले में दो श्रेणी बनाया जाना उचित नहीं,: गहलोत

जयपुर,27फरवरी(भाषा)पेंशनकेमामलेमेंदोश्रेणियांबनाएजानेकोअनुचितकरारदेतेहुएराजस्थानकेमुख्यमंत्रीअशोकगहलोतनेकहाहैकिराजस्थानसरकारकेएकजनवरी2004याउसकेबादनियुक्तहोनेवाले3लाखसेअधिककर्मचारियोंकोपुरानीपेंशनयोजनाकाफायदामिलेगा।मुख्यमंत्रीनेअपनेबजटीयभाषणमेंइसकीघोषणाकीथी।मुख्यमंत्रीगहलोतनेकहाकिराज्यहितमेंकामकरनेवालेकर्मचारियोंकेलिएपेंशनकेमामलेमेंदोश्रेणीबनायाजानाउचितनहींहै।नईऔरपुरानीपेंशनयोजनापूरीतरहसेउनकेबीचभेदभावउत्पन्नकररहीहै।इसफैसलेकोमानवीयकदमबतातेहुएगहलोतनेकहाकिकर्मचारियोंकीयहमांगलंबेसमयसेलंबितथीऔरइससेउन्हेंसेवानिवृत्तिकेबादसामाजिकसुरक्षामिलेगी।उन्होंनेकहाकिपुरानीपेंशनयोजनाकर्मचारियोंऔरउनकेपरिवारोंकेहितमेंहै।उल्लेखनीयहैकिमुख्यमंत्रीगहलोतने23फरवरीकोपेशवर्ष2022-23केराज्यबजटमें1जनवरी2004एवंइसकेबादनियुक्तकर्मचारियोंकेलिएनईपेंशनयोजना(एनपीएस)केस्थानपरपुरानीपेंशनयोजनालागूकरनेकीघोषणाकी।राज्यभरकेकर्मचारियोंद्वाराइसकास्वागतकियाजारहाहै।उन्होंनेरविवारकोपीटीआई-भाषासेकहाकिइसफैसलेसेदोउद्देश्यपूरेहोंगे।उन्होंनेकहा,"यहनकेवलराज्यकेकर्मचारियोंकोसामाजिकसुरक्षाप्रदानकरेगीबल्किउन्हेंपूरेसमर्पणकेसाथकामकरनेकेलिएप्रेरितकरेगीजिससेअच्छाकामकाजऔरसुशासनमिलेगा।"गहलोतनेकहा,'राज्यहितमेंकामकरनेवालेकर्मचारियोंकेलिएपेंशनकेमामलेमेंदोश्रेणीबनायाजानाउचितनहींहै।नईऔरपुरानीपेंशनयोजनापूरीतरहसेउनकेबीचभेदभावउत्पन्नकररहीहै।इसकेचलतेनयेकर्मचारियोंकीकार्यक्षमतापरभीअसरपड़रहाथा।अपनेकर्मचारियोंकोसामाजिकसुरक्षाप्रदानकरनासरकारकाभीदायित्वहै।'इससमयराजस्थानमेंलगभगतीनलाखकर्मचारीहैंजोकिअबपुरानीपेंशनयोजनाकेदायरेमेंआएंगे।मुख्यमंत्रीनेकहाकिदेशमेंएकअप्रैल2004सेसरकारीकर्मचारियोंकीपेंशनयोजनाबंदकरदीगईथी।उसकेबादसेनियुक्तहोनेवालेकर्मचारियोंकेलिएनईपेंशनयोजनालागूकीगई।दोनोंपेंशनयोजनाओंकीतुलनाकरनेसेसाफहोताहैकिनईपेंशनयोजनाकर्मचारियोंऔरउनकेपरिवारकोकिसीभीतरहसेसामाजिकसुरक्षाप्रदाननहींकरसकती।भविष्यकेप्रतिअनिश्चितताकेचलतेहीकर्मचारियोंमेंअसंतोषपनपनेलगाथा।नईयोजनामेंकर्मचारियोंकीपेंशनराशिपूरीतरहसेबाजारपरनिर्भरहै।कर्मचारियोंकाकहनाहैकिपुरानीयोजनाकेतहतउन्हेंमहीनेकेअंतिमवेतनकापचासफीसदपेंशनकेतौरपरहरमाहमिलेगाजबकिनईयोजनामेंयहअनिश्चितहै।राज्यसरकारकेएककर्मचारीनेकहा,'‘कर्मचारियोंमेंभविष्यकोलेकरबहुतअसुरक्षाथीऔरपूरेदेशमेंअसंतोषबढ़नेलगाथा।इससेकर्मचारियोंकेकामकाजपरभीप्रतिकूलप्रभावपड़ा।राजस्थानमेंजबयहकदमउठायागयाहै,तोउसनेअन्यराज्यसरकारोंपरदबावबनायाहै।केंद्रऔरअन्यराज्यसरकारोंकोभीकर्मचारियोंकेहितमेंराजस्थानद्वाराकीगईपहलकापालनकरनाचाहिए।'’मुख्यमंत्रीगहलोतनेकहाकिसरकारकायहकर्तव्यहैकिवहअपनेकर्मियोंकोउनकेरिटायरमेंटकेबादजीवनयापनकेलिएएकनिश्चितमात्रामेंपेंशनकीगारंटीदेतेहुएउन्हेंउनकेभविष्यकीसुरक्षाप्रदानकरें।उनकाकहनाथाकिपेंशनभुगतानकेदायित्वकोभीसरकारसाथमेंसहनीयबनानेकीदिशामेंठोसकामकरें।उन्होंनेकहाकिपूर्वपेंशनयोजनालागूकरनेकेकारणनईयोजनाकीतरहअबसरकारकाअंशदाननहींजाएगाऔरयहराशिविकासऔरजनकल्याणकेलिएउपलब्धहोगी।पुरानीयोजनालागूकरतेसमयसरकारकेविकासकार्यलगातारजारीरहेंगे।उन्होंनेकहाकिदेशकेकईराज्योंजिनमेंकेरल,आंध्रप्रदेश,पंजाबऔरहिमाचलप्रदेशमेंनईपेंशनयोजनाकीसमीक्षाकेलिएराज्यस्तरपरसमितियांबनाईगईहै।पश्चिमबंगालकीसरकारनेअपनेकर्मचारियोंपरनवीनपेंशनयोजनाकोअभीतकलागूहीनहींकियाहै।राष्ट्रीयन्यायिकवेतनआयोग-द्वितीयनेभीन्यायिकसेवापरनईपेंशनप्रणालीप्रभावीनहींकरनेकीसिफारिशकीहै।उन्होंनेकहाकिमहालेखाकारनियंत्रककी2018कीरिपोर्टमेंभीयहअंकितकियाहैकिनवीनपेंशनयोजनादशकोंपुरानीसामाजिक-आर्थिकसुरक्षाप्रदानकरनेमेंविफलरहीहै।इसीतरहसेराष्ट्रीयमानवाधिकारआयोगनेभीकेंद्रसरकारकोनवीनपेंशनप्रणालीकीसमीक्षाकेलिएसमितिगठितकरनेकीअनुशंसाकीहै।गहलोतकेअनुसारयहएकमान्यसिद्धांतभीहैकिकर्मचारीवर्गकेलिएजोसुविधाएकबारप्रदानकरदीजातीहै,उसमेंसामान्यतयाकटौतीनहींकीजातीहै।नईपेंशनप्रणालीकेलागूहोनेकेबादएकअप्रैल2004केपश्चातजोकर्मचारीसेवानिवृतहुएहैं,उन्हेंयातोकोईपेंशननहींमिलीहैयाफिरइतनीकममिलीहैकिवहअपनाजीवनयापननहींकरसकतेहैं।इसलिहाजसेभीराष्ट्रीयपेंशनप्रणालीअपनेमकसदकोपानेमेंअसफलहीसाबितहुईहै।इसबीचराज्यसरकारकेअधिकारियों,कर्मचारियोंनेपूर्वपेंशनयोजनाकीघोषणाकेलिएमुख्यमंत्रीकाकियाआभारव्यक्तकिया।पुरानीपेंशनबहालीराष्ट्रीयआंदोलनसमिति,रोडवेजकर्मचारी-अधिकारीसंघ,अखिलराजस्थानअनुसूचितजाति-जनजाति,पिछड़ीजातिअधिकारी-कर्मचारीसंयुक्तमहासंघ,राजस्थानराज्यमंत्रालयिककर्मचारीमहासंघअजमेर,अखिलराजस्थानलैबटेक्नीशियनसंघ,पंचायतीराजमंत्रालयिककर्मचारीसंघ,राजस्थानमंत्रालयिककर्मचारीसंघ,न्यूपेंशनस्कीमएम्प्लॉइजफैडरेशन,एनआरएचएमयूनियनबीकानेर,राजस्थानअभियोजनअधिकारीएसोसिएशन,राजस्थानशिक्षकसंघशेखावतसहितविभिन्नशिक्षकसंघएवंअन्यसंगठनोंकेप्रतिनिधिमंडलोंनेगतदोदिनोंमेंमुख्यमंत्रीसेमिलकरउनकाआभारव्यक्तकिया।