• Home
  • मूड़ा कलां गांव में गिर रहीं दीवारें, नहीं मिले आवास

मूड़ा कलां गांव में गिर रहीं दीवारें, नहीं मिले आवास

महोली(सीतापुर):विकासक्षेत्रपिसावांकीग्रामपंचायतमूड़ाकलांमेंसैफूकीकोठरीढहनेसेहुईदोमासूमोंकीमौतकेबादभीजिम्मेदारगंभीरनहींहुएहैं।दरअसल,इसगांवमेंसैफूकेघरकेपास-पड़ोसबनेकच्चेमकानोंकीदीवारेंबारिशकेचलतेभरभराकरढहरहीहैं।विडंबनायहहैपात्रताहोतेहुएभीइनग्रामीणोंकोअबतकआवासयोजनासेवंचितरखागयाहै।दैनिकजागरणनेमूड़ाकलांगांवपहुंचकरसरकारीदावोंऔरआवासयोजनाकीहकीकतकोपरखा।जर्जरकोठरीमेंरहरहेग्रामीणोंनेहालबयांकिया।पीड़ितसैफूनेभीबतायाकिपात्रताहैलेकिनआवासनहींमिलरहा।आवासदेनेकेलिएप्रधानकेस्तरसेहीमनमानीकीजातीहै।जिससेपात्रलाभसेवंचितहैंऔरकच्चेमकानोंमेंदहशतकेसायेमेंरहरहेहैं।केस-1

मीनूपत्नीश्यामकिशोरकईवर्षोंसेएकजर्जरझोपड़ीमेंरहतीहैं।पात्रताहोनेकेबादभीप्रधानमंत्रीग्रामीणआवासयोजनाकालाभनहींमिलपायाहै।पतिमजदूरीकरकेकिसीतरहदोबच्चोंकापेटपालतेहैं।केस-2

मोसिनापत्नीअख्तरअलीनेबतायाकिउसकीकोठरीकिसीभीवक्तढहसकतीहै।फिरभीवहअपनेमासूमबच्चोंसंगकोठरीमेंरहनेकोबाध्यहै।आवासयोजनामेंमांगकेबादभीलाभनहींमिला।केस-3

रजियापत्नीनिसारनेबतायाकिजबबारिशहोतीहैतोवहदुआकरतीहैंकिबारिशथमजाएताकिवहबच्चोंसहितकोठरीमेंसुरक्षितरहें।आवासयोजनाकीपात्रहैंपरलाभनहींमिलसका।

हसीनापत्नीसरफुद्दीननेकहागरीबोंकीसुनीनहींजारही।पानीबरसताहैतोकलेजाबैठनेलगताहै।डरकेसायेमेंकच्चीकोठरीमेंरहनेकोविवशहैं।पतानहींकबआवासमिलेगा।अगरकोईपात्रआवासयोजनासेवंचितहैतोएकप्रार्थनापत्रकार्यालयमेंदेसकताहै।हमजांचकराएंगेऔरपात्रताहोनेपरआवासयोजनाकालाभदेंगे।

रामकुमारउपाध्याय,बीडीओपिसावां