• Home
  • मध्यस्थता केंद्र में फिर थामा एक-दूजे का हाथ

मध्यस्थता केंद्र में फिर थामा एक-दूजे का हाथ

कौशांबी:दहेजकीखातिरबेरहमहुएयुवककोपत्नीसेफिरमोहब्बतहोगई।चारसालतककोर्टमेंमुलाकातकेबादपतिवपत्नीनेन्यायालयकेमध्यस्थताकेंद्रमेंएक-दूजेकाहाथथामलियाऔरफिरकभीनझगड़नेकीकसमखातेहुएघरलौटगए।

फतेहपुरजनपदकेखखरेरूथानाक्षेत्रकेकबरेनिवासीमेद्दूपुत्रचौबेकीशादीवर्ष2002मेंमामलामंझनपुरकोतवालीक्षेत्रकेनारागांवकीमानतीदेवीकेसाथहुईथी।चारबच्चोंकेजन्मकेबादभीदहेजमें50हजाररुपयेकेलिएउसेप्रताड़नादीजातीथी।चारसालपहलेपतिनेमानतीदेवीकोपीटकरघरसेभगादियाथा।मानतीनेदहेजउत्पीड़नवभरणपोषणकामुकदमान्यायालयमेंदर्जकरायाथा।न्यायालयनेमामलेकोसुलह-समझौतेकेलिएमध्यस्थताकेंद्ररेफरकिया।यहांपतिवपत्नीएक-दूसरेसेरूबरूहुए।मध्यस्थदेवशरणत्रिपाठीवविधिकसेवाकेप्राधिकरणकेसचिवप्रेमप्रकाशनेदोनोंकोसमझायाऔरशादीकेबंधनकेमहत्वकोबताया।बुधवारकोदोनोंएकसाथरहनेकोतैयारहुए।साथहीभविष्यमेंछोटी-छोटीबातोंकोलेकरकभीनझगड़नेकीकसमखाई।इसकेबादमानतीअपनेपतिमेद्दूकेसाथससुरालचलीगई।जिलाजजसुरेंद्रपाल¨सहनेदंपतीकेसुखमयभविष्यकीकामनाकी।