• Home
  • Lightning Strike: आकाशीय बिजली गिरने से भारत में रोज हो रही चार लोगों की मौत, बिहार में सबसे ज्यादा, वजह भी जानिए

Lightning Strike: आकाशीय बिजली गिरने से भारत में रोज हो रही चार लोगों की मौत, बिहार में सबसे ज्यादा, वजह भी जानिए

नईदिल्लीअपनेदेशमेंआकाशीयबिजलीगिरनेसेलोगोंकीजानजानेकीखबरेंअक्सरआतीरहतीहैं।मौसमविभागकीएकरिपोर्टमेंइसबाबतचौंकानेवालीजानकारीसामनेआईहै।इसमेंबतायागयाहैकिआकाशीयबिजलीगिरनेसेभारतमेंहरदिनऔसतनचारसेअधिकलोगोंकीमौतहोरहीहै।बिहार,उत्तरप्रदेश,मध्यप्रदेश,ओडिशा,झारखंड,छत्तीसगढ़जैसेराज्योंमेंआकाशीयबिजलीगिरनेसेमौतकेसबसेअधिकमामलेसामनेआएहैं।एकसालमें1611लोगोंकीमौतभारतमौसमविज्ञानविभागकेसहयोगसेक्लाइमेटरेसिलियंटऑब्जर्विंगसिस्टमप्रमोशनकाउंसिलद्वारातैयारकीगई‘बिजलीगिरनेकेसंबंधमेंवार्षिकरिपोर्ट’मेंयहबातसामनेआईहै।रिपोर्टकेअनुसार,‘एकअप्रैल2020से31मार्च2021तकदेशकेविभिन्नराज्योंमेंआकाशीयबिजलीगिरनेकीघटनाओंमें1611लोगोंकीमौतहुई।’इसप्रकार,देशमेंआकाशीयबिजलीगिरनेसेहरदिनऔसतनचारसेअधिकलोगोंकीमौतहोरहीहै।बिहारमेंसबसेज्यादामौतेंरिपोर्टकेअनुसार,एकअप्रैल2020से31मार्च2021तकआकाशीयबिजलीगिरनेसेबिहारमें401लोगोंकीमौतहुईजबकिउत्तरप्रदेशमें238,मध्यप्रदेशमें228,ओडिशामें156,झारखंडमें132,छत्तीसगढ़में72लोगोंकीमौतहुई।इसकेकारणमहाराष्ट्रमें58औरकर्नाटकमें54लोगोंकीमौतहुई।RajasthanNews:हाड़ौतीमेंफिरमौतबनकरगिरीआकाशीयबिजली,3कीमौत7घायलढाईसालमेंसवाकरोड़सेज्यादाघटनाएंमौसमविभागकेआंकड़ोंकेअनुसार,वर्ष2019मेंदेशकेविभिन्नराज्योंमेंआकाशीयबिजलीगिरनेकीकुल47.69लाखघटनाएंसामनेआईंजोवर्ष2020मेंबढ़कर63.30लाखहोगईं।वर्ष2021मेंजूनमाहतकदेशमेंआकाशीयबिजलीगिरनेके27.87लाखमामलेसामनेआए।इसप्रकार,पिछलेढाईवर्षोंमेंदेशमेंआकाशीयबिजलीगिरनेकी1.38करोड़घटनाएंदर्जकीगईं।इसमेंकहागयाहैकिवर्ष2019कीतुलनामें2020मेंआकाशीयबिजलीगिरनेकीघटनाओंमें25प्रतिशतवृद्धिदर्जकीगईजबकिवर्ष2021मेंजूनतकपिछलेवर्षकीसमानअवधिसेतुलनाकरनेपरऐसीघटनाओंमें10प्रतिशतकीकमीकापताचलताहै।यूपीमेंआकाशीयबिजलीकाकहर,28लोगोंकीगईजान,अकेलेप्रयागराजमें13लोगोंकीमौतबिजलीगिरनेकीघटनाओंकीनिगरानीकेलिएएपबनाभारतमौसमविज्ञानविभाग(आईएमडी)केमहानिदेशकमृत्युंजयमहापात्रनेबतायाकिभारतीयऊष्णदेशीयमौसमविभागसंस्थान,पुणेनेबिजलीगिरनेकीघटनाओंकापतालगानेकेलिएदेशकेअनेकस्थानोंपर‘लाइटनिंगलोकेशननेटवर्क’स्थापितकिएहैं।उन्होंनेबतायाकिबिजलीगिरनेकीघटनाओंकीनिगरानीकेलिए‘दामिनीएप’भीविकसितकियागयाहै।...तोवैश्विकतापमानबढ़नेसेबिजलीगिरनेकीघटनाएंज्यादाआईएमडीमेंआकाशीयबिजलीसंबंधीविभागकीप्रमुखडॉ.सोमासेनरायनेकहाकिकईअध्ययनोंमेंयहबातसामनेआईहैकिपिछले20-25वर्षोंकेदौरानआकाशीयबिजलीगिरनेऔरगरजकेसाथतूफानआनेकीघटनाएंबढ़ीहैं।उन्होंनेकहाकिओडिशा,पश्चिमबंगाल,छत्तीसगढ़,हिमालयीक्षेत्रोंमेंऐसीघटनाएंकाफीबढ़ीहैं।इसकासंबंधवैश्विकतापमानवृद्धिसेहै।इससंबंधमेंजिलास्तरपरभीचेतावनियांजारीकीजातीहैं।बरसातमेंबाहरहैं?बिजलीकड़कतेहीहोजाएंसतर्क,इनउपायोंसेबचासकतेहैंजानमध्यप्रदेश,छत्तीसगढ़,यूपीकाहालजानिएमौसमविभागकेआंकड़ोंकेअनुसार,मध्यप्रदेशमेंवर्ष2019मेंआकाशीयबिजलीगिरनेकी5.39लाखघटनाएं,वर्ष2020में1.73लाखघटनाएंऔर2021मेंजूनतक2.85लाखघटनाएंसामनेआईं।छत्तीसगढ़मेंवर्ष2019मेंआकाशीयबिजलीगिरनेकी3.43लाखघटनाएं,वर्ष2020में6.53लाखघटनाएंऔर2021मेंजूनतक2.62लाखघटनाएंदर्जकीगई।महाराष्ट्रमेंवर्ष2019मेंऐसी4.02लाखघटनाएं,वर्ष2020में5.68लाखघटनाएंऔर2021मेंजूनमाहतक2.13लाखघटनाएंदर्जकीगईं।उत्तरप्रदेशमेंआकाशीयबिजलीगिरनेकीवर्ष2019में2.44लाखघटनाएं,2020में1.09लाखघटनाएंऔर2021मेंजूनमाहतक1.17लाखघटनाएंदर्जकीगईं।पश्चिमबंगालमेंवर्ष2019मेंऐसी3.63लाखघटनाएं,वर्ष2020में36,574घटनाएंऔरवर्ष2021मेंजूनमाहतक3.05लाखघटनाएंसामनेआई।