• Home
  • लगातार चढ़ते पारे से उत्तराखंड में बढ़ी बिजली की खपत, लगा महंगाई का करंट, अब जनता को झेलनी होगी परेशानी

लगातार चढ़ते पारे से उत्तराखंड में बढ़ी बिजली की खपत, लगा महंगाई का करंट, अब जनता को झेलनी होगी परेशानी

जागरणसंवाददाता,देहरादून:लगातारचढ़तेपारेकेबीचउत्तराखंडमेंबिजलीकीखपतअचानकबढ़गईहै।दूसरीतरफ,जलविद्युतपरियोजनाओंमेंपर्याप्तउत्पादननहींहोनेकेकारणबिजलीकीउपलब्धताकमहुईहै।ऊर्जानिगममांगकोपूराकरनेकेलिएराष्ट्रीयबाजारसेबिजलीखरीदरहाहै,लेकिनमूल्यअधिकहोनेकेकारणनिगमकीपरेशानीबढ़गईहै।

बिजलीकटौतीहीएकमात्रविकल्प

वहजरूरतकेमुताबिकबिजलीनहींखरीदपारहा।ऐसेमेंनिगमकेपासबिजलीकटौतीहीएकमात्रविकल्पबचाहै।राष्ट्रीयबाजारमेंबिजलीकामूल्यबढ़नेकाकारणकोयलाऔरगैसकेदाममेंबढ़ोतरीकोबतायाजारहाहै।

मूल्यअधिकहोनेकेकारणअधिकबिजलीखरीदनाचुनौती

पिछलेएकसप्ताहमेंप्रदेशमेंबिजलीकीखपतमेंभारीइजाफाहुआहै।प्रतिदिन40से50लाखयूनिटबिजलीकीकमीहोरहीहै।ऐसेमेंबाजारसेबिजलीखरीदऔरकटौतीदोनोंहीविकल्पोंकोअपनायाजारहाहै।राष्ट्रीयबाजारमेंइनदिनोंबिजलीकामूल्य10से15रुपयेप्रतियूनिटहै।मूल्यअधिकहोनेकेकारणऊर्जानिगमकेलिएअधिकबिजलीखरीदनाचुनौतीसाबितहोरहाहै।

ऊर्जानिगमकमीकेसापेक्षआधीबिजलीहीखरीदपारहाहै।ऐसेमेंनिगमनेकटौतीबढ़ादीहै।ग्रामीणऔरऔद्योगिकक्षेत्रोंमेंज्यादाकटौतीकीजारहीहै।इनहालातसेनिपटनेकेलिएऊर्जानिगमउम्मीदकररहाहैकिप्रदेशकीजलविद्युतपरियोजनाओंमेंउत्पादनमेंवृद्धिहो,साथहीराष्ट्रीयबाजारमेंबिजलीकीदरोंमेंकमीआए।

ऊर्जानिगमकेअधिशासीअभियंतापरिचालनगौरवशर्मानेबतायाकिकोयलाऔरगैसकेदाममेंबढ़ोतरीहोनेसेराष्ट्रीयबाजारमेंबिजलीकेदामबढ़गएहैं।ऐसेमेंअधिकबिजलीखरीदनासंभवनहींहै।

ग्रामीणक्षेत्रोंमेंचारसेछहघंटेकटौती

बिजलीकीकिल्लतकेचलतेऊर्जानिगमग्रामीणक्षेत्रोंमेंज्यादाकटौतीकररहाहै।कईशहरीइलाकोंमेंभीकुछ-कुछदेरकेकटलगाएजारहेहैं।औद्योगिकक्षेत्रोंमेंभीकटौतीदेखनेकोमिलरहीहै।ग्रामीणक्षेत्रोंमेंदिनभरमेंचारसेछहघंटेकीघोषितवअघोषितकटौतीकरबिजलीकीमांगकोकमकरनेकाप्रयासकियाजारहाहै।

हरिद्वारजिलेकेमंगलौर,ज्वालापुर,भगवानपुर,रुड़कीआदिमेंदोसेतीनघंटेकीकटौतीकीजारहीहै।ऊधमसिंहनगरजिलेकेकिच्छा,खटीमा,सितारगंज,बाजपुरआदिइलाकोंमेंचारसेछहघंटेबत्तीगुलहोरहीहै।देहरादूनकेग्रामीणक्षेत्रवविकासनगरमेंभीयहीहालहै।

जलविद्युतपरियोजनाओंमेंउत्पादनकमहोनेसेबढ़ीपरेशानी

उत्तराखंडमेंविद्युतउत्पादनमुख्यरूपसेजलविद्युतपरियोजनाओंपरनिर्भरहै।यहांउत्तराखंडजलविद्युतनिगमकी17,निजीकंपनियोंकी17वकेंद्रसरकारकीचारपरियोजनाओंसेउत्पादनकियाजाताहै।लेकिन,इनजलविद्युतपरियोजनाओंमेंउत्पादनसामान्यसेकमहोनेकेकारणअभीपर्याप्तबिजलीनहींमिलपारही।आनेवालेदिनोंमेंग्लेशियरपिघलनेसेनदियोंकाजलप्रवाहबढ़नेकीउम्मीदहै,जिसकेबादविद्युतउत्पादनमेंबढ़ोतरीहोसकतीहै।

26मार्चकीस्थिति

कुलमांग-40.53मिलियनयूनिट

कुलउपलब्धता-37.63मिलियनयूनिट

कमी-2.90मिलियनयूनिट

कुलउत्पादन-13.25मिलियनयूनिटप्रतिदिन

केंद्रीयपूलसेआवंटितकोटेकीबिजली-14.51मिलियनयूनिट

राष्ट्रीयबाजारसेबिजलीखरीद-0.78मिलियनयूनिट

अन्यअनुबंधोंसेप्राप्तबिजली-9.09मिलियनयूनिट