• Home
  • कृषि कानूनों की खिलाफत से शुरू हुआ आंदोलन अब पार्टी विरोध पर केंद्रित हुआ तो मंच से वक्ताओं के बोल भी बदल रहे

कृषि कानूनों की खिलाफत से शुरू हुआ आंदोलन अब पार्टी विरोध पर केंद्रित हुआ तो मंच से वक्ताओं के बोल भी बदल रहे

जागरणसंवाददाता,बहादुरगढ़:नवंबर2020मेंदिल्लीकीसीमाओंपरआंदोलनशुरूतोतीनकृषिकानूनोंकेखिलाफहुआथा,मगरउसकेबादसरकारकेसीधेविरोधऔरअबयहपार्टीविशेषकेविरोधपरकेंद्रितहोचुकाहै।इसीकेसाथमंचसेवक्ताओंकेबोलभीबदलरहेहैं।कृषिकानूनोंसेज्यादाअबआगामीचुनावोंकोलेकरभाषणज्यादादिएजारहेहैं।आंदोलनमेंअबगैरकृषिसंगठनोंकीभागीदारीतोनकेबराबरहै।ऐसेमेंमंचपरपहुंचनेवालेकिसानसंगठनोंकेनेतापार्टीविशेषकानामलेकरहीउसकेनेताओं,मंत्रियोंऔरविधायकोंकोसबकसिखानेकाप्रचारकरतेदिखतेहैं।ज्यादातरवक्ताअबतोएकहीबातपरजोरदेतेहैंकिफलांराज्यमेंसत्तापक्षकोनाकामकरदियाऔरअबआगेफलांराज्यमेंकरेंगे।यहअलगबातहैकिजबआंदोलनशुरूहुआतोइसमेंकिसीभीदलकेनेताओंकोमंचकेआसपासजगहनहींमिलतीथीऔरपार्टीविशेषकेविरोधकीबातनहींहोतीथी।उससमयपंजाबकेकिसाननेताओंकोयहभीआह्वानकरतेसुनाजासकताथाकिनारेलगानेमेंकिसीकीमर्यादाभंगनकीजाए।विरोधहो,मगरसम्मानिततरीकेसेहो।लेकिनयहसबधीरे-धीरेबदलगया।बादमेंआंदोलनकेबीचऐसीभाषाकाभीप्रयोगकियाजानेलगाजोसीधेतौरपरगाली-गलौचहै।अबयहआंदोलनसातमाहपूरेकरनेजारहाहै।शुरुआतमेंकिसीकोभीयहअंदाजानहींथाकियहइतनालंबाचलेगा।अभीयहऔरकितनालंबाचलजाए,इसकीभीकोईसीमानहींदिखरहीहै।सरकारनेजोआखिरीमीटिगमेंप्रस्तावदियाथावहतोआंदोलनकारियोंनेठुकरादियाथा।वेअपनीमांगपरटससेमसतकनहींहोरहेहैं।इतनालंबाआंदोलनबहादुरगढ़केव्यापारऔरउद्योगकोबड़ानुकसानपहुंचाचुकाहै।