• Home
  • खेती के साथ वैकल्पिक साधनों के लिए दिया जा रहा अनुदान

खेती के साथ वैकल्पिक साधनों के लिए दिया जा रहा अनुदान

गोपालगंज।दैनिकजागरणकेअभियानजोउपजाएअन्नवोक्योंनहोसंपन्नकेतहतरविवारकोथावेप्रखंडकेलछवारपंचायतकेलछवारगांवमेंकिसानगोष्ठीकाआयोजनकिया।इसकिसानगोष्ठीमेंकिसानोंकोखेतीबारीकेलिएसंचालितयोजनाओंकेसाथहीवैकल्पिकसाधनोंकोअपनानेकेलिएसरकारसेमिलनेवालेअनुदानकीविस्तारसेजानकारीदीगई।गोष्ठीमेंमौजूदकृषिविशेषज्ञोंनेकिसानोंकोअन्नउपजानेकेसाथहीआयकेवैकल्पिकसाधनोंकोअपनानेतथासब्जियोंवमसालेजैसेनगदीफसलकीखेतीकरनेकीसलाहदिया।किसानोंकाबतायागयाकिचना,गोभी,लहसुन,प्याजजैसीअन्यनगदीफसलकेसाथहीसरकारमछलीपालन,मुर्गीपालनतथागायपालनकोबढ़ावादेनेकेलिएभीयोजनाचलारहीहै।इनयोजनाओंकेतहतकिसानोंकोअनुदानदियाजाताहै।गव्यविकासयोजनाकेतहतकिसानोंकोदसगायखरीदने,मवेशियोंकेलिएशेडवनादबनानेकेलिएअनुदानदियाजारहाहै।छहसेसातलाखलागतसेडेयरीखोलनेपरसरकारकीतरफसेलागतकापचासप्रतिशतअनुदानकिसानोंकोदियाजारहाहै।आम,जामुन,अमरुद्ध,लीचीकीखेतीकरनेकेलिएभीसरकारअनुदानदेरहीहै।किसानोंकोबतायागयाकिखेतीमेंआधुनिकतकनीककाइस्तेमालकरनेकेलिएभीसरकारबढ़ावादेरहीहै।जीरोटिलेजसेबिनाखेतकीजुताईकिएबुआईकीजातीहै।जीरोटिलेजसेखेतीकरनेपरसरकारशतप्रतिशतअनुदानदेरहीहै।जीरोटिलेजयोजनाकेतहतकिसानोंकोअनुदानपरकिटदियाजाताहै।इसकिटमें13किलोउन्नतकिस्मकेबीजतथाअन्यसामानरहताहै।इसकेसाथही

सामान्यगेहूंबीजपरभीअनुदानदियाजारहाहै।दसवर्षसेपुरानेबीजपर80प्रतिशततथाउससेकमपुरानेबीजपर60प्रतिशतअनुदानदियाजारहाहै।दलहनप्रत्यक्षणयोजनाकीजानकारीदेतेहुएबतायागयाकिइसयोजनाकेतहतप्रत्येकराजस्वगांवकेदो-दोकिसानोंकोमुफ्तमेंकिटदियाजाताहै।जिसमेंदलहनकेउन्नतकिस्मकेबीजकेसाथअन्यसामग्रीरहतीहै।गोष्ठीमेंमौजूदकृषिविभागकेपदाधिकारियोंनेकिसानोंकोजैविकखेतीप्रोत्साहनयोजना,मिट्टीजांचयोजना,बीजविस्तारयोजना,कृषियांत्रीकरणयोजना,राष्ट्रीयकृषिविकासयोजना,हरितक्रांतिउपयोजना,राष्ट्रीयखाद्यसुरक्षामिशनकेबारेमेंकिसानोंकोविस्तारसेबताया।किसानोंकोबतायागयाकिकृषियांत्रीकरणयोजनाकेतहतसरकारकिसानोंको76प्रकारकेकृषियंत्रपरअनुदानदेरहीहै।कंबाइनहार्वेस्टरपर50प्रतिशत,पावरटीलरपर50प्रतिशत,जीरोटिलेजसीडकमफर्टिलाइजरड्रील,मल्टीक्रॉपप्लांटरसहितअन्यकृषियंत्रोंपरभी50प्रतिशतअनुदानदियाजारहाहै।किसानोंकोबतायागयाकिराष्ट्रीयखाद्यमिशनकेतहतमसूरवचनाफसलकेप्रत्यक्षणपर0.4हेक्टेयरक्षेत्रपर33600रुपयाप्रतिप्रत्यक्षणकीदरसेअनुदानदियाजारहाहै।मसूर,चनावमटरफसलप्रत्यक्षपरभी3600कीदरसेअनुदानदियाजारहाहै।किसानगोष्ठीमेंकिसानसलाहकारविजेंद्रगिरी,कृषिविशेषज्ञसुधीर¨सह,अशोकप्रसादवराजेंद्रप्रसाद,पूर्वमुखियासंदीपकुमारगिरीउर्फमंटूगिरी,वीरेंद्रशर्मा,सुरेंद्रगिरी,उदयशंकरगिरी,दिलीपकुमार,सुरेशगिरी,सुरेमनराम,हरेंद्रशर्मा,हरिचंद्रमांझी,हरकेश¨सह,रामजीगिरी,राजेंद्रपर्वत,लक्ष्मणपर्वत,भोलायादवसहितकाफीसंख्यामेंकिसानमौजूदरहे।जैविककोरिडोरयोजनामेंतीससालतकदियाजाताहैअनुदान

थावे:किसानगोष्ठीमेंकृषिविभागकेपदाधिकारियोंनेकिसानोंकोजैविककोरिडरोयोजनाकेबारेमेंभीविस्तारसेजानकारीदिया।उन्होंनेबतायाकिइसयोजनाकेतहतजैविकखेतीकेअंगीकरणतथाप्रमाणीकरणकेलिएभीकिसानोंकोतीनसालकेलिए16400रुपयाप्रतिएकड़तकसहायतादीजातीहै।इसयोजनाकेतहतकिसानोंकोपहलेसाल11400रुपया,दूसरेसाल3000रुपयातथातीसरेसाल2000रुपयाप्रतिएकड़सहायताराशिदीजातीहै।इसकेसाथहीकिसानोंकेप्रशिक्षण,उत्पादनपैके¨जगवपरिवहनतथाप्रमाणीकरणकेलिएव्ययकावहनसरकारकरतीहै।किसानोंकोबतायागयाकिजैविकखेतीकरेवालेकिसानोंकेक्षेत्रोंकाप्रमाणीकरणबिहारराज्यबीजएवंजैविकप्रमाणनएजेंसीपटनाद्वारासिक्किमजैविकप्रमाणनाएजेंसीकेमाध्यमसेकरायाजारहाहै।किसानोंनेबताईसमस्याएं,कहा-नलकूपबंदहैं

थावे:किसानोंगोष्ठीमेंकिसानोंनेअपनीसमस्याओंपरखुलकरबातकिया।खासकर¨सचाईकेसरकारीसंसाधनकीबदहालीकोलेकरकिसानोंमेंरोषदिखा।किसानोंनेकहाकिलछवारपंचायतमेंचारसरकारनलकूपलगाहै।लेकिनचारोंनलकूपपिछलेकईसालसेबंदपड़ेहैं।आजबिजलीपर्याप्तरूपसेमिलरहीहै।लेकिननलकूपबंदपड़ेहोनेसेकिसानमहंगाडीजलखरीदकरपंपसेटसेपटवनकरनेकेलिएमजबूरहैं।दोसौरुपयाप्रतिघंटाकेहिसाबसेपटवनकरनेसेखेतीकीलागतकाफीबढ़जातीहै।उन्होंनेकहाकिइसपंचायतमेंएकछोटीनहरगुजरतीहै।लेकिनइसमेंकईसालसेपानीनहींहै।कईबारशिकायतकरनेपरभीनतोनलकूपचालूहुआऔरनाहीनहरमेंपानीआताहै।किसानोंनेकहाकिअगरनलकूपचालूहोजाएतोइसपंचायतमेंलगभग80प्रतिशतकिसानोंकोपटवनकोलेकरआरहीसमस्यादूरहोजाएगी।

फसलकीउपजकीउचितकीमतनहींमिलनेसेकिसानोंकोघाटाउठानापड़ताहै।कमउपजपरलागतनहींनिकलताहैतथाअधिकउपजहोनेपरअनाजकोबेचनेमेंसमस्याआतीहै।सरकारकोस्थानीयस्तरअनाजबेचनेकेलिएमंडीखोलनाचाहिए।

लक्ष्मणपर्वत¨सचाईकेसरकारसंसाधनसेहरखेततकपानीपहुंचसकेइसतरफसरकारकोध्यानदेनाचाहिए।¨सचाईकीसुविधाकाकिसानोंकोलाभनहींमिलपारहाहै।खेतीमेंलागतबढ़गईहैतथामौसमकीमारभीकिसानोंकोझेलनीपड़रहीहै।

भगवतीगिरीछोटेकिसानोंकेलिएसरकारकोअलगसेयोजनाबनानीचाहिए।कृषियांत्रीकरणजैसीयोजनाकालाभछोटेकिसाननहींलेपातेहैं।खासकरनिजीपंपसे¨सचाईकरनाकिसानोंपरकाफीभारीपड़ताहै।

राजेंद्रपर्वतसरकारीयोजनाएंकिसानोंकेलिएलाभदायकहैं।लेकिनसमयसेइसकालाभनहींमिलपाताहै।डीजलअनुदानतथाफसलक्षतिअनुदानकीराशिकेलिएकिसानोंकोभटकनापड़ताहै।

रामजीगिरीसरकारजितनीयोजनासंचालितकरतीहैउसकालाभकिसानोंकोसमयसेमिलजाएतोकिसानोंकीअधिकांशसमस्यादूरहोजाएगी।योजनाकालाभसमयसेनहींमिलपाताहै।

हरकेश¨सहकिसानोंकोउनकीउपजकाउचितकीमतमिलसके,इसतरफसरकारकोखासतौरपरध्यानदेनाचाहिए।खेतीमेंअबलागतकाफीबढ़गईहै।उपजकीसहीकीमतकिसानोंकोनहींमिलताहै।

हरिचंद्रमांझीखेतीतभीलाभदायकबनेगीजबहरखेतमेंपानीपहुंचे।नहरोंसेसमयसेपानीनहींमिलताहै।सरकारीनलकूपखराबपड़ेहैं।निजीपंपसे¨सचाईकरनेसेलागतकाफीबढ़जातीहै।

हरेंद्रशर्मासरकारकिसानोंकीसमस्याकोदूरकरेकाप्रयासकररहीहै।लेकिनयहप्रयासतभीसफलहोगाजबकिसानोंतकयोजनापहुंचेगी।समयपरयोजनाओंकालाभनहींमिलनेसेकिसानोंकोपरेशानीहोतीहै।