• Home
  • जम्मू कश्मीर: गृह मंत्रालय ने कहा- सामान्य हो रहे हैं हालात, जल्द होगी नजरबंद नेताओं की रिहाई

जम्मू कश्मीर: गृह मंत्रालय ने कहा- सामान्य हो रहे हैं हालात, जल्द होगी नजरबंद नेताओं की रिहाई

नईदिल्ली:गृहमंत्रालयकेवरिष्ठअधिकारियोंनेशुक्रवारकोसंसदकीएकसमितिकोजानकारीदेतेहुएबतायाकिकेंद्रशासितप्रदेशजम्मू-कश्मीरमेंहालातसामान्यहोरहेहैंऔरपूर्वमुख्यमंत्रियोंसमेतहिरासतमेंलिएगएतमामनेताओंकोरिहाकियाजाएगा.हालांकिइसकेलिएउन्होंनेकोईसमयसीमानहींबताई.कांग्रेसनेताआनंदशर्माकीअध्यक्षतावालीगृहमामलोंकीसंसदकीस्थाईसमितिकोकेंद्रीयगृहसचिवअजयकुमारभल्ला,मंत्रालयमेंअतिरिक्तसचिवज्ञानेशकुमारऔरअन्यअधिकारियोंनेकेंद्रशासितप्रदेशजम्मू-कश्मीरऔरलद्दाखकेहालातसेअवगतकराया.

सूत्रोंकेमानेंतोसमितिकेकुछसदस्योंनेसरकारीअधिकारियोंसेकश्मीरजानेकीमांगकीथीलेकिनइसमांगकोखारिजकरदियागया.लोकसभाऔरराज्यसभाकेसदस्योंनेसरकारकेशीर्षअधिकारियोंसेहिरासतमेंलिएगएनेताओंखासतौरपरतीनबारमुख्यमंत्रीरहेऔरश्रीनगरसेसांसदफारूखअब्दुल्लाकेबारेमेंसवालकिए.जिन्हें17सितंबरकोजनसुरक्षाकानूनकेतहतहिरासतमेंलियागयाथा.

गृहमंत्रालयकेअधिकारियोंनेसंसदीयसमितिकोबतायाकिजिन्हेंजनसुरक्षाकानून(पीएसए)केतहतहिरासतमेंलियागयाहैवेइसेअधिकृतन्यायाधिकरणमेंचुनौतीदेसकतेहैंऔरउसकेआदेशसेअंसतुष्टहोनेपरउच्चन्यायालयकारुखकरसकतेहैं.अब्दुल्लाएकमात्रनेताहैंजिन्हेंकश्मीरमेंपीएसएकानूनकेतहतहिरासतमेंरखागयाहै.सूत्रोंकेमुताबिकसांसदोंनेलंबेसमयतकअब्दुल्लाकेबेटेऔरपूर्वमुख्यमंत्रीउमरअब्दुल्लाऔरपीपुल्सडेमोक्रेटिकपार्टी(पीडीपी)प्रमुखऔरपूर्वमुख्यमंत्रीमहबूबामुफ्तीकोलंबेसमयतकहिरासतमेंरखनेकाविरोधकिया.बतादेंकिकेंद्रसरकारकेजम्मू-कश्मीरकोविशेषदर्जादेनेवालेअनुच्छेद-370केअधिकतरप्रावधानोंकोखत्मकरराज्यकोदोकेंद्रशासितप्रदेशबनानेकेबादसेयेदोनोंनेताहिरासतमेंहैं.

सूत्रोंनेबतायाकिहिरासतमेंलिएगएनेताओंकोछोड़नेकेसवालपरभल्लाऔरउनकीटीमकेअधिकारियोंनेबतायाकिकुछनेताओंकोरिहाकियाजाचुकाहैऔरबाकीनेताओंकोधीरे-धीरेरिहाकरदियाजाएगा,हालांकिलेकिनअधिकारीसमयसीमाबतानेसेबचतेरहे.गृहसचिवनेसांसदोंकोबतायाकिकेंद्रशासितप्रदेशजम्मू-कश्मीरमेंहालातसामान्यहोरहेहैं,स्कूलखुलगएहैंऔरसेबकाकारोबारहोरहाहै.

सांसदोंनेकश्मीरघाटीमेंपांचअगस्तसेइंटरनेटसेवाओंपरअंकुशलगानेकामुद्दाउठायाजिसपरअधिकारियोंनेबतायाकियहप्रतिबंधआतंकवादियोंकोविध्वंसककार्रवाईकोअंजामदेनेसेरोकनेऔरअसामाजिकतत्वोंकोअफवाहफैलानेसेरोकनेकेलिएलगायागयाहै.सांसदोंकोअधिकारियोंनेबतायाकि1990सेअबतकजम्मू-कश्मीरमेंआतंकवादीहिंसाकी71,254घटनाएंहुईजिनमें14,049नागरिकोंकीमौतहोगईऔर5,293सुरक्षाकर्मीशहीदहोगए.इसीदौरान22,552आतंकवादीभीमारेगए.

गृहमंत्रालयकेअधिकारियोंनेसमितिकेसदस्योंकोबतायाकिसभीकेंद्रीयकानूननएकेंद्रशासितप्रदेशमेंलागूहोंगे.जिनराज्यकानूनोंकाअधिकारक्षेत्रकेंद्रीयकानूनकेअधिकारक्षेत्रमेंदखलदेताहैं,वेनिरस्तहोगयेहैं.राज्यकेअन्यकानूनोंकोभारतीयसंविधानकेअनुकूलबनायाजाएगा.सांसदोंकेसामनेदीगईप्रस्तुतिकेदौरानअधिकारियोंनेभारतकेनएराजनीतिकमानचित्रकोभीप्रदर्शितकियाजिसमेंजम्मू-कश्मीरऔरलद्दाखकोदोअलग-अलगकेंद्रशासितप्रदेशोंकेरूपमेंदिखायागयाहैतथापाकिस्तानकेकब्जेवालेकश्मीरऔरगिलगिटबाल्टिस्तानकोभीइनकेंद्रशासितप्रदेशोंमेंशामिलकियागयाहै.

प्रस्तुतिकेदौरानअधिकारियोंनेबतायाकिकेंद्रशासितप्रदेशजम्मू-कश्मीरमें22जिलेहैंऔरकुलआबादीकरीबएककरोड़22लाखहै.वहींकेंद्रशासितप्रदेशलद्दाखमेंदोजिलेकारगिलऔरलेहहैं.साथहीउन्होंनेयेभीसाफकरदियाकिदोनोंकेंद्रशासितप्रदेशोंमेंलैंडलाइनफोनसेवाऔरपोस्टपेडमोबाइलफोनसेवाएंबहालकरदीगईहैं.घाटीमेंरातकेसमयकोछोड़करधारा144केतहतआवाजाहीपरलगीरोकहटालीगईहै.

बैठकमेंमौजूदसूत्रोंकेमुताबिकजम्मू-कश्मीरकेमुद्देपरसमितिमेंचर्चाकेदौरानभाजपाऔरकांग्रेससांसदोंकेबीचमतभेददेखनेकोमिला.भाजपासांसदोंनेनियमावलीकाहवालादेतेहुएकहाकिकार्यपालिकाकेकामकाजमेंहस्तक्षेपनहींहोनाचाहिए.वहीं,कांग्रेससांसदोंकाकहनाथाकिमामलागंभीरहैइसलिएउसपरचर्चाहोनीचाहिए.

पढ़ें: दिल्ली-NCRकीहवामेंअभीभीघुलाहैजहर,प्रदूषणकमकरनेमेंलाचारहैसरकार