• Home
  • जिले में लोग नहीं लेना चाहते इस योजना का लाभ, जानिए आखिर क्या है वजह

जिले में लोग नहीं लेना चाहते इस योजना का लाभ, जानिए आखिर क्या है वजह

बरेली:गायकादूधपौष्टिकतासेभरपूरहोनेकेसाथहीस्वास्थ्यकेलिएबेहतरमानागयाहै।गायकेदूधकासेवनकरनेसेकईतरहकीबीमारियांदूरहोतीहैं।यदिगायकादूधकुपोषितबच्चोंकोनियमितदियाजाएतोइसबीमारीसेजल्दहीराहतमिलजातीहै।निराश्रितगोवंशसहभागितायोजनाकेतहतकुपोषितबच्चोंकेस्वजनोंकोनिश्शुल्कगायदेनाहै।कईमाहबीतजानेकेबादभीयहयोजनाजनपदमेंपरवाननहींचढ़रहीहै।जिलेमेंवैसेतोकुलछहहजारअतिकुपोषितबच्चे,35से40हजारकुपोषितबच्चेहैं।जिलेमेंसंचालित50गोशालाओंमेंकुल4517गायसंरक्षितहैं।

जिलेमेंअभीतककेवलएकहीबच्चेकेस्वजनोंनेगायली,जिसेएकसप्ताहबादवापसभीकरदिया।कुपोषितबच्चोंकीसंख्यामेंबच्चोंकोतीनश्रेणीमेंरखागयाहै।सभीबच्चोंकाकुपोषणदूरकरनेकेलिएसरकारकीओरसेविभिन्नयोजनाएंशुरूकीगई।बच्चोंमेंकुपोषणकोदूरकरनेकेलिएशासननेमुख्यमंत्रीनिराश्रितगोवंशसहभागितायोजनाचलाईहै।इसकेतहतकोईभीव्यक्तिनिराश्रितगायकोलेसकताहै।सितंबर2020मेंशासननेइसयोजनाकालाभकुपोषितपरिवारोंकोवरीयताकेआधारपरदेनेकानिर्णयलिया।

50अतिकुपोषितोंकीदीगईथीसूची

जिलाकार्यक्रमअधिकारीडा.आरबीसिंहनेबतायाकियोजनाकेलिए50अतिकुपोषितपरिवारकीसूचीसीवीओकोभेजीगईथी।जिसमेंसेएकभीपरिवारनेगायनहींलीहै।जबकिप्रत्येकपरिवारकोनौसौरूपयेप्रतिमाहभीपशुपालनविभागकीओरसेदियाजानाहै।

नहींकामआयाजागरूकताअभियान

सितंबर2020मेंशुरूयोजनाकालाभकुपोषितपरिवारोंकोवरीयताकेआधारपरदेनेकानिर्णयलिया।इसयोजनाकोसफलबनानेकेलिएजागरूकताअभियानभीचलायागया।जिलेमेंयोजनाकेपरवाननचढ़नेकाएककारणजिलेमेंसंचालितनिराश्रितगोवंशआश्रयस्थलोंमेंजोगायहै,वहबेहदकमदूधदेनेवालीहै।इससेलाभार्थियोंकोइसकालाभनहींमिलपारहाहै।यहीकारणहैंकिजिलेमेंयोजनाफ्लापहोरहीहै।

क्याकहनाहैअधिकारियोंका

निराश्रितगोवंशस्थलोंमेंसंरक्षितगायकमदूधदेनेवालीहैं।ऐसेमेंलोगइसओरबिल्कुलभीध्याननहींदेरहेहैं।सभीकोकमसेकम10लीटरप्रतिदिनदूधदेनेवालीगायचाहिए।

डा.ललितकुमारवर्मा,मुख्यपशुचिकित्साधिकारी