• Home
  • हिमालयी जलस्रोतों के बारे में मिली बड़ी सफलता, अध्‍ययन में पता चली ये बात

हिमालयी जलस्रोतों के बारे में मिली बड़ी सफलता, अध्‍ययन में पता चली ये बात

देहरादून,सुमनसेमवाल।वाडियाहिमालयभूविज्ञानसंस्थाननेहिमालयीजलस्रोतोंकेस्रोतपताकरनेकीदिशामेंबड़ीसफलताहासिलकीहै।उत्तराखंडकेचकराताजोनकेसूखेकीकगारपरपहुंचचुकेसातगांवोंके15जलस्रोतोंपरकिएगएअध्ययनमेंपताचलाहैकिइनमेंपानीकाएकमात्रस्रोतबारिशहै।इसनतीजेतकपहुंचनेकेलिएवैज्ञानिकोंनेजलस्रोतोंकेपानीकेआइसोटोपकाअध्ययनकिया।इसेवैज्ञानिकहिमालयकेसमूचेजलस्रोतोंकेसंरक्षणकीनजरसेभीदेखरहेहैं।

'रिवाइवलऑफनेचुरलस्प्रिंग्सइनचकरातारीजन'नामकअध्ययनकाहिस्साबनेवैज्ञानिकडॉ.समीरकेतिवारीकेअनुसारजलस्रोतोंकेपानीकेहाइड्रोजनवऑक्सीजनकेआइसोटोप(समस्थानिक)वहीपाएगए,जोइसक्षेत्रकेबारिशकेपानीकेहैं।खासबातयहकिइनसभीआठगांवोंकेस्रोतोंकेपानीकेयहीनतीजेरहे।इसपरिणामकेबादअबअलगविधिसेयहपताकियाजाएगाकिस्रोतोंसेनिकलनेवालापानीकितनापुरानाहै।ताकिउतनेहीसमयतकबारिशकेपानीकोसहेजकरजलस्रोतोंकोपूरीतरहरीचार्जकियाजासके।डॉ.तिवारीकेमुताबिक,इसआइसोटोपअध्ययनकोभलेहीचकरातापरकेंद्रितकियागयाहै,मगरपूरेहिमालयीक्षेत्रमेंयहीस्थितिबननेकीपूरीउम्मीदहैऔरसभीजगहबारिशकेपानीकेसंरक्षणसेहीस्रोतोंकोपुनर्जीवितकियाजासकताहै।

ट्रिसियमआइसोटोपसेपताचलेगीअवधि

वाडियाहिमालयभूविज्ञानसंस्थानकेवैज्ञानिकडॉ.समीरकेतिवारीबतातेहैंकिजलस्रोतोंकोरीचार्जकरनेकेलिएयहपतालगानाजरूरीहोताहैकिइनमेंनिकलनेवालाबारिशकापानीकितनापुरानाहै।क्योंकिसामान्यविधियहकहतीहैकिहमेंउतनेहीसमयतकलगातारबारिशकेपानीकोस्रोतोंकेऊपरयाइर्द-गिर्दएकत्रितकरनाहोगा।वैसेसामान्यतौरपरबारिशकेपानीवालेस्रोतोंमेंयहपानीढाई-तीनसालकीअवधिकाहोताहै।फिरभीट्रिसियमआइसोटोपपरकामशुरूकरदियागयाहै।

आइसोटोपअध्ययनसेइसतरहमिलतेहैंपरिणाम

वैज्ञानिकडॉ.तिवारीबतातेहैंकिहाइड्रोजनवऑक्सीजनकेस्थाईआइसोटोपकीमात्राहरऊंचाईपरअलग-अलगहोतीहै।समुद्रमेंयहशून्यहोतीहैऔरऊंचाईकेसाथमाइनसहोतीचलीजातीहै।जिसऊंचाईपरजोस्रोतहोतेहैं,उनकेऔरबारिशकेपानीकेआइसोटोपकास्तरसमानपाएजानेपरस्थितिपताचलजातीहै।

चकराताजोनकेइनगांवोंमेंकियाअध्ययन

जहांबांजकेजंगलवहां,स्रोतबेहतर

वाडियासंस्थानकेवैज्ञानिकोंनेयहभीपायाकिजिनगांवोंकेस्रोतोंकेआसपासबांजकेजंगलहैं,वहांस्रोतोंकीदशाकुछबेहतरहै।क्योंकिबांजकेजंगलोंमेंबारिशकापानीएकदमबहनेकीजगहधीरे-धीरेजमीनमेंसमातेहुएबहताहै।उपरौलीमेंखासकरयहबातपताचली।इसकेअलावावैज्ञानिकोंनेपायाकिजंगलोंकेकटानवअनियोजितनिर्माण(सड़कआदिके)केकारणस्रोतसूखरहेहैं।

बरसातीस्रोतोंकोपुनर्जीवितकरनाजरूरी

यहभीपढ़ें:भू-वैज्ञानिकोंनेगंगोत्रीहाइवेपरजतायीबड़ेभूस्खलनकीआशंका,पढ़िएपूरीखबर

यहभीपढ़ें:उत्तरकाशीकेभड़कोटगांवमेंवर्षाकेजलसेहोरहीखेतीऔरकिसानी