• Home
  • गंदगी में निखर रहा छात्रों का भविष्य

गंदगी में निखर रहा छात्रों का भविष्य

समस्तीपुर।शहरीक्षेत्रोंमेंआंगनबाड़ीकेंद्रोकाहालबेहालहै।कहीकेंद्रकेआसपासगंदगीकीअंबारहैतोकहींबच्चोकीसंख्यामेंकमी।ज्यादातरकेंद्रपरसहायकगायब।दैनिकजागरणकेपड़तालमेंशहरीक्षेत्रोंकेआंगनवाड़ीकेंद्रपरनामांकितबच्चोकीसंख्या40तोथीपरबच्चोकीउपस्थितआधेसेभीकममिली।शहरकेकुछआंगनवाड़ीकेंद्रकोछोड़देंतोज्यादातरकेंद्रपरगंदगीकाअंबारदिखा।गंदगीकेबीचनौनिहालोंकाभविष्यक्याहोगायहसोचनेकीबातहै।शहरकेलोकनाथपुरगंजस्थितआंगनवाड़ीकेंद्रसंख्या164मेंआनेवालेबच्चोकाअधिकसमयकेंद्रकेपासफैलीगंदगीकेबीचहीगुजररहाहै।यहांइनकेलिएपौष्टिकआहारभीतैयारकियाजाताहै।लोगअपनेघरोंकोसाफसुथरारखनेकेलिएसारीगंदगीइसआंगनवाड़ीकेसामनेडालदेतेहैं।विभागप्रशासनकेआलाअधिकारीभीकभीकभारइसकेंद्रकादौराकरतेहैंलेकिनकिसीनेइसओरध्यानहीनहींदिया।आंगनवाड़ीकेंद्रकीचहारदिवारीनहींहोनेकेकारणलोगआंगनबाड़ीकेंद्रकेआगेहीअपनेघरोंकाकूड़ाडालजातेहैं।आंगनबाड़ीसेविकानेबतायाकिवेअपनेस्तरपरदो-दोसौरुपएदेकरकईबारकूड़ाउठवाचुकीहै।लेकिनलोगफिरवहींकूड़ाडालजातेहैं।गंदगीमेंअवारापशुसुअरदिनभरमुंहमारतेरहतेहैं।आलमयहहैकिसड़कसेगुजरनाभीदूभरहै।

निजीजमीनमेंफूससेबनेइसआंगनवाड़ीकेंद्रपरबच्चोकीउपस्थितबहुतअच्छीदिखीलेकिनयहांसेविकासिम्पलदेवीएकअन्यमहिलाकेसाथतोजरूरउपस्थितथीलेकिनसहायिकासुदामादेवीगायबमिली।पूछनेपरसेविकासिम्पलदेवीनेबतायावहबच्चेकोघरछोड़नेगईहै।साथबैठीमहिलाकोआपनीननदबताया।शहरकेअम्बेडकरनगरसामुदायिककेंद्रभवनमेंचलरहेआंगनवाड़ीकेंद्रसंख्या164अन्यकेंद्रसेसाफसुथरीतोजरूरदिखीलेकिनयहांबच्चोंकीउपस्थितबहुतकमथी।यहानामांकितबच्चोकीकुलसंख्या40मेंसेमहजदसबच्चेकेंद्रपरमौजूदथे।यहांभीअन्यकेंद्रकीतरहसेविकातोमौजूदथीलेकिनसहायिकागायबथी।पूछनेपरसेविकासीतादेवीनेबतायाकिसहायिकापूनमदेवीकीमांकादेहांतहोनेकेकारणवहआजनहीआयीहै।बच्चोंकीसंख्याकमहोनेपरउसनेबतायाकिअबइसकेंद्रपर15से20बच्चेहीआतेहैंजिसकीजानकारीसीडीपीओमैडमकोदेदीगईहै।