• Home
  • ब्रिटिश भारतीय संगठनों ने कोर्बिन के कश्मीर रुख को चुनौती दी

ब्रिटिश भारतीय संगठनों ने कोर्बिन के कश्मीर रुख को चुनौती दी

(अदितिखन्ना)लंदन,14अक्टूबर(भाषा)भारतसरकारद्वाराजम्मूकश्मीरकाविशेषदर्जासमाप्तकरनेकेबादकश्मीरकेसंबंधमेंलेबरपार्टीकेरुखकीनिंदाकरनेकेलिए100सेअधिकब्रिटिश-भारतीयपेशेवरोंऔरसामुदायिकसंगठनोंनेसोमवारकोब्रिटेनकेविपक्षीनेताजेरेमीकोर्बिनकोएकपत्रलिखा।लेबरपार्टीने25सितंबरकोकश्मीरकेसंबंधमेंएकआपातप्रस्तावपारितकरतेहुएपार्टीनेताकोर्बिनसेआह्वानकियाथाकिवहइसक्षेत्रमेंअंतरराष्ट्रीयपर्यवेक्षकोंको‘‘प्रवेशकरने’’केलिएमांगकरें।इसकेअलावालोगोंकेलिएआत्मनिर्णयकेअधिकारकीमांगकिएजानेकीभीबातकीगयीथी।भारतीयप्रवासीलोगोंकेप्रतिनिधियोंनेपार्टीकीआलोचनाकरतेहुएइसे‘‘गलतजानकारीसेभरा’’बतायाथा।इंडियनप्रोफेशनल्सफोरम(आईपीएफ),इंडियननेशनलस्टूडेंट्सएसोसिएशन(आईएनएसए),हिंदूकाउंसिलयूकेकेसाथहीविभिन्नमंदिरनिकायोंऔरसामुदायिकप्रतिनिधियोंसहितब्रिटिश-भारतीयसंगठनोंनेएकसंयुक्तपत्रमेंकोर्बिनपरआरोपलगायाकिवहभारत-पाकिस्तानकेएकद्विपक्षीयमामलेकोब्रिटेनकीघरेलूराजनीतिमेंलारहेहैं।पत्रमेंकहागयाहैकिपार्टीकाविभाजनकारीआपातप्रस्तावक्षेत्रमेंअंतरराष्ट्रीयहस्तक्षेपकाआह्वानकरताहै।पत्रमेंकहागयाहैकिहमसामूहिकरूपसेब्रिटिश-भारतीयसामुदायिकसंगठनोंकेरूपमें,अपनीगहरीनाराजगीव्यक्तकरनेकेलिएयहपत्रलिखरहेहैंकिपार्टीनेभारतऔरपाकिस्तानकेद्विपक्षीयमामलेपरलंबेसमयसेचलीआरहेरुखकोछोड़दियाहैऔरऐसाकरवेब्रिटेनमेंसामुदायिकवैमनस्यकेबीजबोरहेहैं।इसमेंकहागयाहैकिहालहीमेंलेबरपार्टीकेसम्मेलनमेंपारितआपातकालीनप्रस्तावहमेंस्वीकार्यनहींहैक्योंकियहआंतरिकमामलोंमेंहस्तक्षेपकाप्रयासकरताहैऔरइसेएकतरफाऔरविभाजनकारीतरीकेसेतैयारकियागयाहै।