• Home
  • बिजली संकट: एक हफ़्ते में हालात सुधरने की उम्मीद, कोयला उत्पादन बढ़ाकर 20 लाख टन प्रतिदिन करेगी सरकार

बिजली संकट: एक हफ़्ते में हालात सुधरने की उम्मीद, कोयला उत्पादन बढ़ाकर 20 लाख टन प्रतिदिन करेगी सरकार

नईदिल्ली,एएनआइ।कोयलेकीकमीकेचलतेमंडरारहेबिजलीसंकटसेनिपटनेकीलगातारकोशिशहोरहीहैलेकिनख़तराअभीटलानहींहै।हालांकि,देशमेंकोयलेकीकोईकमीनहींहैऔरएकहफ्तेमेंहालातसुधरनेकीउम्मीदहै।केंद्रसरकारइसकेलिएतैयारीकररहीहै।केंद्रसरकारराज्योंऔरबिजलीकंपनियोंऔररेलवेद्वाराकोयलेकीमांगकोपूराकरनेकेलिएपूरीतरहतैयारहै।केंद्रसरकारएकसप्ताहकेअंदररअपनेदैनिककोयलाउत्पादनको19.4लाखटनप्रतिदिनसेबढ़ाकर20लाखटनप्रतिदिनकरनेजारहीहै।सरकारीसूत्रोंनेसमाचारएजेंसीएएनआईकोबतायाकिराज्योंऔरबिजलीकंपनियोंकोकोयलेकीदैनिकआपूर्तिमेंकोईकमीनहींहैऔरउनकेपास5दिनोंकास्टाकबचाहुआहै।सरकारकेमुताहिक,एकमहीनेमेंस्थितिसामान्यहोजाएगी।

बिजलीसंकटगहरानेकेकारण

वर्तमानबिजलीयाकोयलासंकटकेकईकारणहैं।सरकारीसूत्रनेएएनआईकोबतायाकिजनवरीसेहीकोयलामंत्रालयविभिन्नराज्योंकोअपने-अपनेराज्योंमेंकोयलालेनेऔरस्टाककरनेकेलिएलिखरहाहै,लेकिनकिसीभीराज्यनेइसपरध्याननहींदिया।कोलइंडियाएकसीमातकस्टाककरसकताहै।अगरहमवहांकीसीमासेअधिककोयलेकास्टाककरतेहैंतोआगकाखतराहै।

राजस्थान,पश्चिमबंगाल,झारखंडकीअपनीखदानेंहैंलेकिनउन्होंनेकोयलानिकालनेकेलिएकुछनहींकिया।यहपताचलाहैकिमंजूरीकेबावजूदकुछराज्यसरकारेंबैठीरहींऔरपर्याप्तखनननहींकरनेकेकारणकोकोरोनाऔरबारिशकाएककारणबताया।लंबेसमयतकमानसूननेकोयलाखननकोप्रभावितकियाऔरआयातितकोयलेकीबढ़तीकीमतोंनेभीमौजूदास्थितिकोबुराबनानेमेंमददकी।विदेशीकोयलेकेआयातमें12प्रतिशतकीगिरावटआईहै,जिसेबिजलीकंपनियांमिलातीहैं।उच्चकीमतोंकेकारणघाटेकोकमकरनेकेलिएउन्होंनेघरेलूकोयलेकेइस्तेमालकाफैसलाकिया।

राज्योंपरकोलइंडियाकाबहुतबड़ाबकायाहै।सूत्रोंसेपताचलाहैकिमहाराष्ट्र,राजस्थान,मध्यप्रदेश,कर्नाटक,पश्चिमबंगालऔरतमिलनाडुबड़ेडिफॉल्टरहैं।सभीराज्योंकोकोलइंडियाको20,000करोड़रुपयेकाभुगतानकरनाहै।