• Home
  • अब किसानों पर भारी पड़ रहा ऋषिकुंड जलछाजन

अब किसानों पर भारी पड़ रहा ऋषिकुंड जलछाजन

मुंगेर।ऋषिकुंडजलछाजनयोजनाकीदयनीयस्थितिकिसानोंपरभारीपड़रहीहै।किसानऋषिकुंडजलछाजनकेजीर्णोद्धारकीमांगकररहेहैं।10सालपूर्वबनाएगएवाटरशेडकेबांधकेजीर्ण-शीर्णहोनेकेकारणकिसानोंकोइसकालाभनहींमिलपारहाहै।अगरइसकाजीर्णोद्धारकरादियाजाताहै,तोबरियारपुरसहितआसपासकेप्रखंडकीलगभगडेढ़हजारएकड़भूमिमें¨सचाईकासाधनउपलब्धहोजाएगा।

ऋषिकुंडजलछाजनयोजनाकीशुरुआत2008मेंनावार्डएवंआइटीसीकेसंयुक्तप्रयाससेतैयारकियागयाथा।योजनाकेतहतकईतालाब,डांड़तथाजलकोसंरक्षितकरनेकेलिएवाटरशेडबनाएगएथे।यहयोजना2012तकठीकचला,इसकेबादबांधकीउंचाईकमहोनेतालाबमेंमिट्टीभरजानेतथाडांड़केगड्ढ़ेकमहोजानेकेकारणपानीसहीस्थानपरनहींपहुंचपाताहै।बरियारपुरप्रखंडकेरतनपुरपंचायत,खड़गपुरप्रखंडकेतेलियाडीहपंचायततथासदरप्रखंडकेगढ़ीरामपुरपंचायततथाजमालपुरप्रखंडकेइटहरीपंचायतकेलगभग1400एकड़जमीनको¨सचाईमिलसकतीहै।ऋषिकुंडजलछाजनकेसचिवइंद्रदेव¨सहनेबतायाकिजलछाजनकामुख्यउद्देश्यजलसंरक्षणतथाभूमिसंरक्षणहै।इसकेतहतपानीकोसंचितकरनेकाकामकियागया।इसकासकारात्मकअसरभीदिखाईपड़ा।उससमयवाटरलेवलचारफीटतकबढ़ाथा।रतनुपर,काजीचक,मैली,भुरकासहितकईस्थानोंपरतालाबकाजीर्णोद्धारऔरजलसंरक्षितकरनेकाकामकियागया।योजनाकेजीर्णोद्धारसेनसिर्फ¨सचाईकीसमस्यादूरहोगी,बल्किमछलीपालनकेअवसरभीपैदाहोंगे।क्षेत्रकेकिसानमनोजकुमार¨सह,संजयकुमार,रामचरित्र¨सह,किशोरमंडल,मुकेशयादवआदिनेकहाकियहयोजनाइलाकेकेकिसानोंकीतकदीरबदलनेवालीहै।किसानोंकेनामपरखूबसियासतहोरहीहै।लेकिनकिसानोंकीसमस्यादूरकरनेकीदिशामेंकोईसार्थकपहलनहींहोरहाहै।